अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हे राम..! बापू को बिहारी जन का सलाम

सरकारी अमला शुक्रवार की सुबह जहां मुख्यमंत्री की अगुआई में गांधी घाट पर राष्ट्रपिता को उनकी शहादत दिवस पर श्रद्धा निवेदित कर रहा था, वहीं आमलोग शहर के रंगकर्मियों के साथ गांधी मैदान के भिखारी ठाकुर रंगभूमि में दो मिनट के मौन को कतारबद्ध थे। उसके बाद सबों ने बापू की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। हिंसा, नफरत तथा दहशतगर्दी की राजनीति को नकारते हुए पटना इप्टा ने ‘हे राम. बापू को बिहारीजन का सलाम’ कार्यक्रम का आयोजन किया।ड्ढr ड्ढr आरंभ मशहूर गीत ‘वैष्णव जन तो.’ के गायन से हुआ। झुग्गी झोपड़ी के बच्चों की सहभागिता से एचएमटी द्वारा प्रस्तुत ‘गांधी’ नाटक लोगों के आकर्षण का केन्द्र बना। निर्देशक सुरश कुमार हज्जू खुद गांधी जी की केन्द्रीय भूमिका में थे। नाटक में गांधी के सम्पूर्ण संघर्ष तथा महत्वपूर्ण विचार और आंदोलनों की झांकी प्रस्तुत की गई। डा. जावेद अख्तर ने ‘फांसी और गोली’ तथा प्रो. विनय कंठ ने ‘गांधी और लोकतंत्र’ विषय पर अपने विचार रखे। रंगकर्मी विनोद ने नागाजरुन की कविता ‘तर्पण’ और गुड़िया ने ‘शपथ’ का पाठ किया। निर्माण कला मंच के बच्चों ने संजय उपाध्याय के निर्देशन में नाटक ‘बालश्रम से छुट्टी’ मंचित किया। अमीर खुसरो और मीरा के पदों का गायन निशा, श्वेत प्रीति और पूजा व आशुतोष मिश्र, अजरुन चौधरी ने किया। उधर अखिल भारतीय स्वतंत्रता सेनानी तथा अखिल भारतीय स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी फेडरशन ने भी बापू का 61 वां बलिदान दिवस मनाया। कार्यक्रम का उद्घाटन कुमार इन्द्रदेव ने किया ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हे राम..! बापू को बिहारी जन का सलाम