DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शुरूआती असफलता से कैरियर को मिली मदद : अभय देओल

शुरूआती असफलता से कैरियर को मिली मदद : अभय देओल

बॉलीवुड में कैरियर के शुरूआती दिनों में अभिनेता अभय देओल को बॉक्स ऑफिस पर सफलता नहीं मिली लेकिन उनका कहना है कि उन शुरूआती विफलताओं ने उनके कैरियर को आगे बढ़ाने में मदद की।
   
वर्ष 2005 में अपनी पहली फिल्म 'सोचा न था' से फिल्मी कैरियर की शुरूआत करने वाले अभिनेता अभय जल्द ही एक रोमांटिक फिल्म 'आएशा' में नज़र आने वाले हैं। अभय ने बताया कि उन्होंने बालीवुड में कदम रखने से पहले अपने लिए कुछ नियम बनाए थे जिनकी वजह से वह घिसे पिटे अंदाज़ से बच गए।
   
अभय ने बताया कि मैंने अपनी पहली फिल्म 'सोचा न था' से एक योजना बनाई थी जो 'एक चालीस..' और 'मनोरमा' तक जारी रही। दुर्भाग्यवश मेरे शुरूआती दिनों की फिल्में बॉक्स ऑफिस पर पिट गई। मैं एक सफल अभिनेता के तौर पर नहीं माना गया और लोगों ने मेरे बारे में बोलना शुरू कर दिया।
   
अभय ने कहा कि इन शुरूआती क्षटकों ने उन्हें सिनेमा के मिजाज़ को समझने की ताकत दी और उनमें जोखिम उठाने की हिम्मत पैदा हुई जिसके चलते वह 'ओय लकी, लकी ओय' और 'देव डी' जैसी सफल फिल्में कर सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शुरूआती असफलता से कैरियर को मिली मदद : अभय देओल