अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कश्मीर को लेकर लोकसभा चिंतित, स्थिति गंभीर

कश्मीर को लेकर लोकसभा चिंतित, स्थिति गंभीर

कश्मीर घाटी की मौजूदा स्थिति पर सोमवार को लोकसभा में विपक्ष द्वारा जताई गई चिंता के बीच केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि घाटी में स्थिति 'गंभीर' है और वह जम्मू एवं कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के साथ चर्चा के बाद इस मसले पर बयान देंगे। अब्दुल्ला दिल्ली में हैं।

उधर, घाटी में सोमवार को एक घायल युवक की मौत के बाद पिछले चार दिनों से जारी हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 15 हो गई। कर्फ्यू का उल्लंघन करते हुए श्रीनगर के कई स्थानों पर भीड़ फिर एकत्रित हो गई। दक्षिणी कश्मीर के बारामूला में आंसू गैस के गोले की चपेट में आकर 31 जुलाई को घायल हुए ताहिर अहमद नाम के युवक की सोमवार को मौत हो गई।

इधर, लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा, ''बीते कुछ दिनों से कश्मीर में स्थिति चिंताजनक है। रविवार को सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति की बैठक भी हुई थी। हम सरकार से यह जानना चाहते हैं कि पूरी स्थिति क्या है और इस पर क्या कदम उठाए जा रहे हैं।''

इस मामले पर जनता दल (युनाइटेड) के अध्यक्ष शरद यादव ने कहा, ''कश्मीर के हालात चिंताजनक हैं। मैं समझता हूं कि सरकार इस मामले को लेकर चिंतित है और ऐसे में हम भी पूरी स्थिति से अवगत होना चाहते हैं। हम इस मामले में सरकार का पूरा सहयोग करेंगे।''

कश्मीर के हालात पर समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता मुलायम सिंह यादव ने भी चिंता जताई। उन्होंने कहा, ''कश्मीर को लेकर बड़ी समस्या यह है कि अब तक कोई भी सरकार वहां के लोगों का विश्वास नहीं जीत पाई है। समस्या को हल करने के लिए हम सभी को कश्मीर के लोगों का विश्वास जीतना जरूरी है।''

घाटी की स्थिति पर सदस्यों द्वारा जताई गई चिंता के बाद चिदंबरम ने कहा कि वहां की स्थिति 'गंभीर' है। उन्होंने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला दिल्ली में हैं और उनके साथ चर्चा के बाद वह इस मसले पर बयान देंगे।

चिदंबरम ने कहा, ''जम्मू एवं कश्मीर एक संवदेनशील राज्य है। पिछले कुछ दिनों में कश्मीर में स्थिति गंभीर हुई है। नौ जुलाई के बाद घाटी में शांति थी लेकिन वहां स्थिति फिर गंभीर हो गई है।''

गृह मंत्री ने कहा, ''मुख्यमंत्री (उमर अब्दुल्ला) दिल्ली में हैं। पिछले कुछ सप्ताह से उनसे मेरी कई बार बात हुई है। अभी आगे और चर्चा होगी। अगर आज संभव हुआ तो (उमर से चर्चा के बाद) मैं सदन में वापस आऊंगा और बयान दूंगा।''

इस बीच मुख्यमंत्री अब्दुल्ला राजधानी पहुंच गए हैं। वह घाटी के मौजूदा हालात पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और गृह मंत्री के साथ चर्चा करेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि उमर 7 रेस कोर्स  स्थित प्रधानमंत्री आवास पर मनमोहन सिंह से मुलाकात करेंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री केंद्र से मदद और घाटी में और अर्धसैनिक बलों की तैनाती की मांग करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कश्मीर को लेकर लोकसभा चिंतित, स्थिति गंभीर