अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जुनून और जूझना

हमने यह जान लिया है कि सफलता के लिए अपनी आंतरिक शक्तियों और योग्यता का ज्ञान बहुत जरूरी है। फिर हमें यह विश्वास होना चाहिए कि विजय हमारी ही होगी, उसकी एक मजबूत कड़ी है। कुछ ऐसी बातें साफ-साफ कहने और समझने योग्य हैं।

यदि आप जीवन में सफल होना चाहते हैं तो आपको लक्ष्य तय करना होगा। उसके बाद जूझना होगा-पहले स्वयं से, फिर लक्ष्य के मार्ग में आने वाली बाधाओं से। इसके साथ, इतने ही बड़े अनुपात में, सफलता पाने का जुनून भी आपको अपने अंदर पैदा करना होगा। आप में से कुछ लोग यह सवाल कर सकते हैं कि क्या सफलता का कोई शार्टकट नहीं है?

यदि आप सफलता तो चाहते हैं, परंतु आसानी से, सहजता से, बिना जूङो, बिना लड़े और बहुत जल्दी, तो बेशक आप बुरा मानें, पर मैं आपको साफ कहना चाहता हूं कि इस सोच से आपको जीवन में कुछ भी हासिल नहीं होगा। आपका जीवन जैसा अब है, उससे बेहतर होना तो भूल जाइए, आने वाले समय में बदतर ही होता जाएगा।

संसार में ऐसा कोई नियम नहीं है कि आप कुछ पाना चाहें और बिना प्रयत्न किए वह वस्तु आपको प्राप्त हो जाए या बिना कोई मूल्य चुकाए आप उसे पा लें। आपको सफलता प्राप्त करने के लिए संघर्ष और प्रयत्न तो करना ही पड़ेगा। कहावत की शैली में कहते हैं कि हाथ-पांव तो हिलाने ही पड़ेंगे।

इस भौतिक संसार में सुख-समृद्धि सफलता से मिलती है और सफलता किसी के द्वारा किसी को उपहार में दी जाने वाली कोई वस्तु नहीं है। वह निस्संदेह मेहनत से आती है, और मेहनत भी हाड़तोड़। इसलिए आपकी सफलता आपके प्रयत्न, आपकी मेहनत, आपके व्यवहार और आपके व्यक्तित्व पर निर्भर करती है।

यदि आप सकरात्मक सोच के साथ लक्ष्य साधकर, सूझबूझ से लगातार प्रयत्न करेंगे तो निश्चय ही आपको सफलता प्राप्त होगी। ऐसा बहुत-से सफल लोगों ने सिद्ध भी किया है और वे मिसालें हमारे आसपास ही बिखरी पड़ी है। जुनून से जय मिलती है और इस जय का स्वाद अलग व गहरा होता है?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जुनून और जूझना