DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तराखंड में मानसून का कहर

भूस्खलन जैसी आपदाओं के लिये अति संवेदनशील पहाड़ी राज्य उत्तराखंड में इस साल बरसात में अब तक 27 लोग मारे जा चुके हैं और सैकड़ों मकान क्षतिग्रस्त होने के साथ ही चार सौ से अधिक सड़कों के टूटने से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है।

राज्य मौसम केन्द्र के निदेशक आनन्द शर्मा के अनुसार इस बरसात ने देहरादून में वर्षा का 44 साल का रिकार्ड तोड़ दिया है। देहरादून में गत दिवस भारी वर्षा के कारण मकान गिरने और धरों मेंपानी घुसने से सैकड़ों लोग प्रभावित हुए हैं।

आपदा प्रबन्धन केन्द्र के अधिशासी निदेशक डां पियूष रौतेला के अनुसार अब तक प्रदेश में त्वरित बाढ़, बिजली गिरने और मकान ढ़हने से 27 लोग मारे जा चुके हैं जिनमें सबसे ज्यादा सात लोग हरिद्वार के हैं। दैवी आपदाओं में अल्मोड़ा में पांच, देहरादून, नैनीताल, बागेश्वर और चम्पावत में दो दो और बाकी चमोली, टिहरी और रूद्रप्रयाग में एक एक लोग मारे गये हैं।

भारी बरसात से 410 निजी मकान आंशिक रूप से तथा 36 पूर्णरूप से ध्वस्त हो गए हैं। पशु हानि में 304 बकरियां तथा 28 अन्य मवेशी दबने या बहने से मर चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उत्तराखंड में मानसून का कहर