DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिलों से मांगी गई मोस्टवांटेड की सूची

राज्य पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों के आरक्षी अधीक्षकों से उनके जिले के फरार मोस्ट वांटेड अपराधियों और उग्रवादियों की सूची मांगी है। इन सूचियों के आधार पर मुख्यालय जल्द ही बिहार के चुिनदा अपराधियों और उग्रवादियों पर 25 हाार से लेकर तीन लाख रुपये तक के इनाम की घोषणा करगी। संभावना है कि भाकपा माओवादी का प्रमुख ओहदेदार देवकुमार उर्फ अरविंद व नक्सली नेता पवन जी पर भी इस वर्ष इनाम घोषित होंगे। दोनों मूलत: जहानाबाद जिले के निवासी हैं। बहुचर्चित जहानाबाद जेल ब्रेक कांड में पुलिस को दोनों की तलाश है।ड्ढr ड्ढr कुछ वैसे अपराधियों पर घोषित इनामों का भी सरकार नवीनीकरण करगी जो इनामी अपराधी अबतक पकड़े नहीं जा सके हैं। ऐसे अपराधियों की संख्या तीन दर्जन से ज्यादा है। इनमें कुख्यात सतीश पाण्डेय, माओवादियों का गुरु और मास्टरमाइंड जगदीश यादव, सुरश, हरनाम यादव, राधा यादव और उसका भाई चुमन यादव प्रमुख है। इन पर घोषित इनाम की वैधता फरवरी व जुलाई में समाप्त हो रही है। स्पेशल टास्क फोर्स व बिहार पुलिस के अभियान में जनवरी-7 से अबतक राज्य के तैंतालीस इनामी अपराधी सलाखों के पीछे धकेले जा चुके हैं।ड्ढr ड्ढr इनके अलावा राजकुमार सिंह (पटना), मुकेश सिंह (बड़हिया), प्रमोद तिवारी उर्फ राका तिवारी (सिवान) एवं हीरा ठाकुर (समस्तीपुर) जसे शातिर इनमी को पुलिस ने मुटभेड़ में मार गिराया। दो लाख का इनामी नागा सिंह को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया जबकि 25 हाार का इनामी समस्तीपुर निवासी हीरा ठाकुर को बीते 18 जनवरी को यूपी एसटीफ ने मार गिराया। 25 हाार का इनामी जला सिंह (लखीसराय) व टुन्ना तिवारी (मोतिहारी) 50 हाार का इनामी अजय राय (गोपालगंज) की मौत गैंगवार में हो गई। कुल 32 लाख 50 हाार रुपये के इनाम वाले इन साठ अपराधियों में 43 को गिरफ्तार करने या मुटभेड़ में मार गिराने में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की भूमिका अहम रही है। एसटीएफ द्वारा शनिवार को औरंगाबाद में गिरफ्तार किया गया 25 हाार का इनामी सुशील पाण्डेय पुलिस का साठवां इनामी शिकार बना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जिलों से मांगी गई मोस्टवांटेड की सूची