अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिशन नेवी में लड़कियों ने लड़कों को पछाड़ा

अक्सर लिखित परीक्षाआें में लड़कों से बाजी मारने की खबरें तो हम सुनते रहते हैं लेकिन मीलों दौड़ने, बाधाएं लांघने, दबाव ट्यूब में समय बिताने और पानी के भीतर खजाने का ताला खोलने जैसी मेहनत भरी कवायद में भी वे आगे निकल जाएंगी, यह किसी ने सोचा नहीं था। ‘मिशन नेवी’ कार्यक्रम के तहत 50 लड़के-लड़कियों ने हिस्सा लिया था और जब तमाम मानसिक और शारीरिक मापदंडों पर उनकी परख हुई तो पांच लोग ही भारतीय नौसेना के पैमाने पर खरे उतरे। लेकिन हैरत की बात यह रही कि इन पांच विजेताआें में से तीन लड़कियां चुनी गईं। नौसेना के पांच सख्त अधिकारियों की पैनी निगाह को सामने नेशनल जियोग्राफिकल चैनल के ‘मिशन नेवी’ कार्यक्रम के लिए इन प्रतियोगियों का मुकाबला हुआ और चयन के वही मापदंड अपनाए गए जो सैन्य सेवा बोर्ड में पास होने के लिए जरूरी होते हैं। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि चुने हुए प्रतियोगिता को भारतीय नौसेना के युद्धपोतों, पनडुब्ब्यिों और विमानों में ले जाना था और उन्हें नौसैनिक की तरह ही चार महीने बिताने थे। इन लंबी कवायद के बाद तैयार किया गया सात कड़ियों का यह धारावाहिक सोमवार से नेशनल जियोग्राफिकल चैनल पर रात नौ बजे शुरू हो रहा है और हर सोमवार को 16 मार्च तक उसका प्रसारण होगा। नौसेना के अधिकारियों ने माना कि ‘लहरों के सरताज’ नाम से आने वाले इस कार्यक्रम से युवाआें की रूचि उनकी आेर बढ़ेगी और कार्यक्रम से यह साफ झलकता है कि मंदी के इस दौर में नौसेना से बढिया करियर उनके लिए नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मिशन नेवी में लड़कियों ने लड़कों को पछाड़ा