DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हटेंगे नहीं,बढ़ेंगे चावला

सरकार ने चुनाव आयुक्त नवीन चावला के मुख्य चुनाव आयुक्त बनने की राह में बिछाए गए काँटे साफ करने का मन बना लिया है। केंद्रीय विधि मंत्री एचआर भारद्वाज ने कहा कि अगले मुख्य चुनाव आयुक्त आयोग में सबसे वरिष्ठ सदस्य (चावला) होंगे, इसमें किसी को कोई संदेह नहीं होना चाहिए। उन्होंने संकेत दिया कि चावला को हटाने की मुख्य चुनाव आयुक्त एन गोपालास्वामी की सिफारिशें खारिा कर दी जाएँगी।ड्ढr विधि मंत्री एचआर भारद्वाज ने सोमवार को मुख्य चुनाव आयुक्त एन गोपालास्वामी की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा, ‘गोपालास्वामी को अपने कार्यकाल के अंतिम समय में ऐसी सिफारिशें नहीं करनी चाहिए थीं। ऐसा करके उन्होंने अपना बुढ़ापा खराब कर लिया। राजनीति करने के बजाय उन्हें निष्पक्ष चुनाव करवा कर 20 अप्रैल को शांतिपूर्वक रिटायर हो जाना चाहिए था। उन्हें बॉस की तरह व्यवहार नहीं करना चाहिए। तीनों आयुक्त बराबर हैं और उनकी शक्ितयाँ समान हैं।’ड्ढr उन्होंने कहा कि गोपालास्वामी के रिटायर होने के बाद बनी रिक्ित तुरंत भर दी जाएगी। उन्होंने तीसरे चुनाव आयुक्त का नाम नहीं बताया लेकिन सूत्रों के अनुसार विधि सचिव टीके विश्वनाथन का नाम सबसे आगे है। विधि मंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति ने मुख्य चुनाव आयुक्त की सिफारिशें विधि मंत्रालय को भेज दी हैं, उस पर विधि सचिव विचार कर रहे हैं। मंत्रालय अपनी राय से पीएम को अवगत करवाएगा और फिर उसे राष्ट्रपति के पास भेज दिया जाएगा। यह पूछे जाने पर क्या वह गोपालास्वामी की सिफारिश रद कर देंगे, भारद्वाज ने कहा कि समय आने पर सब स्पष्ट हो जाएगा।ड्ढr संविधान के अनुच्छेद 324 (5) पर विधि मंत्री ने स्पष्टीकरण दिया और कहा कि इसका गलत अर्थ निकाला जा रहा है। मुख्य चुनाव अायुक्त, चुनाव आयुक्तों को हटाने की सिफारिश कर सकता है लेकिन उस पर अंतिम फैसला राष्ट्रपति ही लेंगे। यह स्पष्ट है कि राष्ट्रपति का फैसला मंत्रिमंडल की सिफारिश पर निर्भर करता है। यह कहना गलत है कि इस मामले में राष्ट्रपति को मंत्रिमंडल से सलाह लेने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति कोई भी फैसला अपनी मर्जी से नहीं करता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हटेंगे नहीं,बढ़ेंगे चावला