DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रधान सचिव के साथ वार्ता, हड़ताल स्थगित

झारखंड राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ ने अपनी मांगों को लेकर सोमवार को राजभवन के समक्ष धरना दिया। इस दौरान कर्मचारियों ने जमकर नारबाजी भी की। दिनभर चले धरना कार्यक्रम के बाद कर्मचारियों के प्रतिनिधिमंडल की राज्यपाल के प्रधान सचिव से वार्ता हुई। इसके बाद कर्मचारियों ने अपनी हड़ताल स्थगित कर दी। महासंघ की मुख्य मांगों में केंद्रीय वेतनमान का लाभ 1.1.2006 से देने या जनवरी 06 से 31 मार्च 2007 तक की बकाया राशि पीएफ में जमा करने, अनुबंधित कर्मचारियों को समायोजित करने, प्रत्येक शनिवार को अवकाश घोषित करना अआदि शामिल है। धरना में सत्यप्रकाश अकेला, प्रदीप कुमार पांडेय, शिव कुमार झा, विमलेंद्र कुमार, प्रशांत झा, नारायण राम, प्रशांत कुमार मिश्र, महेश भारतीय, शशिभूषण सिंह, महावीर साव, रामचंद्र गोप, पंका कुमार झा, मीरा सिंह, फुलेश्वर ठाकुर, अजय कुमार शामिल थे। राजपत्रित संवर्गो का वेतनमान एक होरांची। राजपत्रित पदाधिकारी फोरम ने सोमवार को राज्यपाल को ज्ञापन सौंपकर कुछ राजपत्रित संवर्ग के साथ भेदभाव कर 8000-13,500 के वेतनमान से वंचित रखने की शिकायत की। फोरम के अध्यक्ष अंजनी कुमार की ओर से सौंपे गये ज्ञापन में कहा गया कि पंचम वेतन आयोग ने सभी राजपत्रित वर्ग-2 के पदाधिकारियों के विभिन्न वेतनमान को 6500-10500 का वेतनमान स्वीकृत किया गया। इसके बाद सार नियमों को धत्ता बताते हुए वित्त विभाग ने कुछ संवर्गो का वेतनमान 8000-135000 कर दिया। राज्यपाल से राजपत्रित संवर्गो का एक वेतनमान करने की मांग की। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रधान सचिव के साथ वार्ता, हड़ताल स्थगित