DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुलायम की उलमा के साथ बैठक में छाया कल्याण मुद्दा

समाजवादी पार्टी के प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने मंगलवार को पार्टी मुख्यालय में उलमा के साथ बैठक की। करीब तीन घंटे तक चली इस बैठक में कल्याण सिंह से सपा की दोस्ती का मुद्दा छाया रहा। सपा के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव, विधानपरिषद में नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन और सपा के युवा प्रकोष्ठों के राष्ट्रीय प्रभारी अखिलेश यादव भी बैठक मेंमौजूद थे।ड्ढr करीब डेढ़ घंटे के अपने भाषण में सपा प्रमुख ने बाबरी मसिद विध्वंस पर अपने स्टैण्ड, मुख्यमंत्री रहते हुए अपनी सरकार में अल्पसंख्यकों के हितों के लिए किए गए फैसलों समेत कल्याण सिंह से सपा की दोस्ती की वजहों का विस्तार से खुलासा किया। उन्होंने कहा कि भाजपा को कमजोर करने के लिए कल्याण सिंह से सपा ने दोस्ती की है। उन्होंने कहा सांप्रदायिकता को खत्म करने के लय से सपा कतई पीछे नहीं हटी है। उन्होंने कहा कि बाबरी विध्वंस में कल्याण सिंह के लिए उनकी ओर से हाल में कही गई बातों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया। श्री यादव ने साफ किया कि कल्याण सिंह सपा में शामिल नहीं किए गए हैं। उन्होंने कहा कि उलमा की राय का सपा हमेशा सम्मान करती रही है।ड्ढr बैठक को कई उलेमा ने भी सम्बोधित किया। इनमें से ज्यादातर की राय यह थी कि कल्याण सिंह को सपा में शामिल करना वे बर्दाश्त नहीं करंगे और न ही मुलायम सिंह यादव के मंच पर कल्याण सिंह उन्हें गवारा होंगे। एक उलमा ने कहा-मसिद बचाने वाले मुलायम सिंह यादव और मसिद गिराने वाले कल्याण सिंह एक मंच पर नहीं होने चाहिए। बैठक में पश्चिमी यूपी से आए कई उलमा भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि कल्याण सिंह भले ही अब भाजपा से अलग हो गए हैं लेकिन बाबरी मसिद विध्वंस में उनकी भूमिका को न कोई मुसलमान भूल सकता है और न ही उन्हें माफ कर सकता है। कुछ उलमा ने सपा के कुछ मुस्लिम नेताओं की ओर से भी कल्याण सिंह प्रकरण पर नाराजगी जताने का जिक्र किया।ड्ढr बैठक में शामिल मौलाना याशिन अख्तर मिस्बाही ने बाद में अखबार वालों से बातचीत में कहा कि कल्याण सिंह को मुसलमान बाबरी विध्वंस के लिए जिम्मेदार मानते ही हैं लेकिन अगर वे भाजपा के कु नबे को कमजोर कर रहे हैं तो ठीक है। लेकिन उनके सपा में शामिल होने या मुलायम के साथ एक मंच पर होना बर्दाश्त नहीं। मौलाना गुलाम कादिर, मौलाना मोहम्मद इदरीस समेत अन्य मौलानाओं ने भी अपने विचार पेश किए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुलायम की उलमा के साथ बैठक में छाया कल्याण मुद्दा