DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नालंदा के 24 बूथों पर नहीं पड़े वोट

सड़क ,पुल व बिजली की मांग और कुछ अन्य स्थानीय मुद्दों को लेकर नालंदा जिले के कुल 24 बूथों पर मतदाताओं ने वोट नहीं डाले। हालांकि शुरुआती दौर में 3बूथों पर वोट बहिष्कार की घोषणा स्थानीय लोगों ने की थी। अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ग्रामीण शिल्प के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने वाली नेपुरा की महिलाओं ने भी वोट नहीं डाले। सरकारी अफसरों के उपेक्षापूर्ण रवैये के कारण वे नाराज हैं इसीलिए उन्होंने वोट बहिष्कार जैसा निर्णय किया।ड्ढr सरमेरा थाने के धनावांबिगहा बूथ संख्या 74, काजीचकबूथ संख्या 75, गोवाचक (110), हिलसा के बनवारीपुर (8भोकीलापर (130), बिंद के बिशुनपुर (35), थरथरी के पुरंदरपुर (233), केनुआपर, चेरो के गोसाईबिगहा (206), गिरियक के महमदपुर (232), नगरनौसा के सुलेमानचक (7), मानपुर के सरबहदी (44) के मतदाताओं ने सड़क-पुल, बिजली, पानी आदि समस्याओं को लेकर वोट का बहिष्कार किया।ड्ढr ड्ढr इसी प्रकार, खुदागंज के महमुदा के बूथों (260), अहमदाबाद (273), इस्लामपुर के इसहादपुर (28), हरनौत के छोटकी मुढ़ारी (238), हसनपुर (187), गोसाईंबिगहा (206), हबीबुल्लाहचक (136), कौशलपुर, बिहार के बासवनबिगहा (05), नालंदा के धरहरा (201), सिलाव के नेपुरा (140) व दरियापुरसराय (171) के बूथों पर मताधिकार का प्रयोग नहीं किया।ड्ढr ड्ढr नवगछिया में मां व बेटे की हत्याड्ढr नवगछियाबिहपुर (सं.सू.)। बिहपुर थाना के हरिओ में अपराधियों ने पुलकित सिंह की पत्नी जीवा देवी और पुत्र मंटू सिंह को दिनदहाड़े गोलियों और बमों से छलनी कर दिया। घटनास्थल पर ही मां और बेटे की मौत हो गई। घटना उस समय घटी जब मंटू सिंह मुखिया विभाकर पासवान के घर से बीपीएल का चावल लेकर घर लौटा था। तभी पूर्व से घात लगाये दस की संख्या में अपराधियों ने बमों से मंटू पर हमला कर दिया जो उसकी जांघ में लगा। बाद में अपराधियों ने सेमी रायफल से मंटू सिंह को सीने में कई गोलियां उतार दीं। बेटे को बचाने आई जीवो देवी को भी अपराधियों ने निशाना बनाया और कई गोलियां उसके सीने में भी उतार दीं। मंटू के पिता ने नागेश्वर सिंह, जवाहर सिंह, इंदल सिंह, गिरीश सिंह समेत 11 को नामजद किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नालंदा के 24 बूथों पर नहीं पड़े वोट