अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली अफ्रीकी टीम बनने उतरेगी घाना

सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली अफ्रीकी टीम बनने उतरेगी घाना

अपनी खोई प्रतिष्ठा हासिल करने की कवायद में लगा दो बार का चैंपियन उरुग्वे शुक्रवार को फीफा विश्वकप क्वार्टर फाइनल में जीत के साथ 40 बरस बाद सेमीफाइनल में जगह बनाने उतरेगा लेकिन उसकी राह में खड़े घाना का लक्ष्य भी अंतिम चार का सफर तय करने वाली पहली अफ्रीकी टीम बनने का होगा।
   
दो बार का चैम्पियन उरुग्वे 1970 के बाद कभी अंतिम चार में नहीं पहुंचा है जबकि घाना के कंधे पर पूरे महाद्वीप की उम्मीदों का बोझ है। दशकों से उरुग्वे अपने दक्षिण अमेरिकी प्रतिद्वंद्वियों ब्राजील और अर्जेन्टीना के साये में रहा लेकिन अब वह अपने प्रतिद्वंद्वियों को पछाड़ते हुए इन दोनों टीमों के साथ क्वार्टर फाइनल में पहुंचा है।
    
साल 1930 और 1950 में खिताब जीतने वाले उरुग्वे का डिफेंस काफी मजबूत है जबकि लुइस सुआरेज और एडिनसन कवानी के पीछे डिएगो फोरलान की आक्रमण पंक्ति किसी भी टीम को धूल चटा सकती है। कोच ऑस्कर टबारेज ने फ्रांस के खिलाफ गोलरहित ड्रा के साथ यह नया संयोजन मैदान पर उतारा जिसका टीम को काफी फायदा हुआ।
   
फोरलान ने मेजबान दक्षिण अफ्रीका पर 3-0 की जीत के दौरान दो गोल दागे जबकि सुआरेज के गोल की मदद से टीम ने मैक्सिको को 1-0 से हराया। टीम ने इसके बाद प्रीक्वार्टर फाइनल में सुआरेज के दो गोल की मदद से दक्षिण कोरिया पर 2-1 की जीत दर्ज की।

उरुग्वे को हालांकि अपने डिफेंस में बदलाव करने के लिए बाध्य होना पड़ेगा क्योंकि डिएगो गोडिन की जांघ में चोट है। टीम के लिए खुशखबरी है कि फोरलान पैर के अंगूठे की चोट से उबर गए हैं और घाना का सामना करने के लिए तैयार हैं।
   
घाना अपने निलंबित खिलाड़ियों जोनाथन मेनशाह और आंद्रे आयू के बिना उतरेगा लेकिन स्ट्राइकर असामोह ग्यान के अमेरिका के खिलाफ प्री क्वार्टर फाइनल मैच में लगी टखने की चोट से उबरने की संभावना है।
   
प्रतियोगिता में बची एकमात्र अफ्रीकी टीम की सबसे बड़ी समस्या उस पर अपेक्षाओं का भारी बोझ होना है लेकिन टीम के कोच मिलोवन राजेवाक ने कहा कि सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली अफ्रीकी टीम बनने की संभावना से उनकी टीम प्रेरित होगी।
   
राजेवाक ने साथ ही कहा कि उनकी टीम को उरुग्वे की आक्रामक शैली से सावधान रहना होगा।
उन्होंने कहा कि वे दक्षिण अमेरिकी देश हैं जिसके खिलाड़ी यूरोप की सर्वश्रेष्ठ लीगों में खेलते हैं। वे दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों में से एक हैं। वे सम्मान के हकदार हैं और फोरलान अच्छा खिलाड़ी है।
   
राजेवाक ने कहा कि लेकिन हम उसी तरीके से खेलेंगे जिसमें अब तक हमें सफलता दिलाई है। हम अपनी शैली में बदलाव नहीं करेंगे और हमें अपने प्रतिद्वंद्वियों की जो भी कमजोरी मिलती है उसका फायदा उठाने की कोशिश करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली अफ्रीकी टीम बनने उतरेगी घाना