अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रिकेट के बारे में काफी कम जानते हैं पवार: स्पीड

क्रिकेट के बारे में काफी कम जानते हैं पवार: स्पीड

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के पूर्व सीईओ मैलकम स्पीड ने जॉन हावर्ड के प्रति बेरूखी को अपमान करार देते हुए कहा कि अगर ऑस्ट्रेलिया के इस पूर्व प्रधानमंत्री के नामांकन को अनुभवहीनता के कारण खारिज किया गया जो शरद पवार भी आईसीसी अध्यक्ष बनने के पात्र नहीं है क्योंकि वह क्रिकेट प्रशासन के बारे में काफी कम जानकारी रखते हैं।

स्पीड ने सिडनी मार्निंग हेराल्ड में अपने कालम में लिखा है है कि उनके (हावर्ड) नाम को क्रिकेट प्रशासक के रूप में अनुभव की कमी, जिम्बाब्वे की रॉबर्ट मुगाबे सरकार के कड़े विरोध या मुथैया मुरलीधरन के विवादास्पद गेंदबाजी एक्शन पर बेबाक राय के लिए खारिज नहीं किया गया। यहां मामला इससे कुछ अधिक है।
    
स्पीड ने कहा कि पवार पूर्णकालिक तौर पर भी उपलब्ध नहीं रहेंगे क्योंकि वह भारत सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं। पवार ने गुरुवार को आईसीसी अध्यक्ष पद संभाला और वह 2012 तक इस पद पर रहेंगे।
    
स्पीड ने कहा कि वह व्यक्ति (शरद पवार) जो आईसीसी का अगला अध्यक्ष बनने वाला है, वह भारत सरकार में कृषि मंत्री है जो एक अरब 20 करोड़ लोगों के पेट भरने का गंभीर पूर्णकालिक काम है। वह अच्छे और साफ सुथरी छवि के व्यक्ति हैं लेकिन वह आईसीसी अध्यक्ष के तौर पर अंशकालिक काम करेंगे और अगर मेरी मानें तो उन्हें क्रिकेट प्रशासन के बारे में अधिक जानकारी नहीं है।

स्पीड ने दावा किया कि पवार ने अतीत में जिन आईसीसी बैठक में शिरकत की उसमें काफी कम समय बिताया।
    
उन्होंने कहा कि उन्होंने जिन बैठकों में हिस्सा लिया उसमें से कई में मैं मौजूद था। आईसीसी बैठक सामान्यत: दो दिन की होती है। पवार एक घंटे बैठक में शिरकत करते थे और इसके बाद भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड का कोई प्रतिनिधि उनकी जगह ले लेता।
    
आईसीसी में स्पीड के कार्यकाल का 2008 में विवादास्पद अंत हुआ जब जिम्बाब्वे क्रिकेट में वित्तीय अनियिमितताओं के खिलाफ संचालन परिषद के कार्रवाई करने से इंकार करने पर तत्कालिक अध्यक्ष रे माली के साथ उनके मतभेद हो गए।
    
स्पीड ने कहा कि हावर्ड का संयुक्त नामांकन करने वाले ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को अब वैकल्पिक उम्मीदवार का नाम भेजने से इंकार कर देना चाहिए जैसा कि आईसीसी ने मांग की है।
   
उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के क्रिकेट बोर्ड के नामांकन जॉन हावर्ड को खारिज करने का आईसीसी सदस्यों का फैसला इन दोनों देशों का अपमान है। स्पीड ने कहा कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड क्रिकेट को अब एक और नामांकन करने से इंकार कर देना चाहिए। रोटेशन प्रणाली के तहत इससे पाकिस्तान और बांग्लादेश की बारी आएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्रिकेट के बारे में काफी कम जानते हैं पवार: स्पीड