DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कश्मीर के हिंसाग्रस्त इलाकों में कर्फ्यू में कोई ढी़ल नहीं

कश्मीर के हिंसाग्रस्त इलाकों में कर्फ्यू में कोई ढी़ल नहीं

कश्मीर घाटी के हिंसाग्रस्त इलाकों में तनावपूर्ण हालात के बीच अधिकारियों ने गुरुवार को सोपोर, बारामुला और अनंतनाग में कर्फ्यू में कोई ढी़ल नहीं दी और श्रीनगर में अलगाववादियों के प्रस्तावित मार्च से पहले सुरक्षा कड़ी कर दी।

अधिकारियों ने बताया कि अमरनाथ यात्रियों का पहला जत्था परंपरागत पहलगाम और बालटाल मार्गों से गुरुवार सुबह अमरनाथ की ओर रवाना हुआ, जिसमें 1272 लोग शामिल हैं।

यात्री बुधवार शाम जम्मू से नुनवान और बालटाल के आधार शिविरों में पहुंचे थे। तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के लिए दोनों मार्गों पर अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।

उधर श्रीनगर में 28 जून को हिंसा के बाद सात पुलिस थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया था, जिसे घाटी की महिलाओं से पुराने शहर की पाथेर मस्जिद तक मार्च निकालने के अलगाववादियों के आह्वान के मद्देनजर गुरुवार को और कड़ा कर दिया गया।

हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी धड़े द्वारा आहूत मार्च को रोकने के लिए संवेदनशील इलाकों में महिला पुलिस की टुकड़ी को तैनात किया गया है। पाथेर मस्जिद को जाने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया गया है।

सुरक्षा बलों की कथित गोलीबारी में युवकों की मौत के मद्देनजर हिंसा को रोकने के लिए अधिकारियों ने बुधवार को दक्षिण कश्मीर के और भी इलाकों में कर्फ्यू लगाया।

अनंतनाग और कुलगाम जिलों के कई इलाकों में बुधवार को विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर अधिकारियों ने बिजबेहारा, मत्तन, दोरू, कोकरनाग, अचलबल में कर्फ्यू में कोई ढी़ल नहीं दी। इस बीच श्रीनगर और घाटी के अन्य इलाकों में जनजीवन अस्तव्यस्त रहा, जहां सरकारी दफ्तर, बैंक और शैक्षणिक संस्थान बंद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कश्मीर के हिंसाग्रस्त इलाकों में कर्फ्यू में कोई ढी़ल नहीं