अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपमानित महसूस कर रहा है सीए, पीछे नहीं हटेंगे हॉवर्ड

अपमानित महसूस कर रहा है सीए, पीछे नहीं हटेंगे हॉवर्ड

पूर्व प्रधानमंत्री जॉन हॉवर्ड की आईसीसी के अध्यक्ष पद की उम्मीदवारी खारिज होने से बेहद नाराज़ क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने कहा है कि इस घटना से वह अपमानित महसूस कर रहा है और इसका आईसीसी के साथ उसके रिश्तों पर असर पड़ेगा। वहीं, हॉवर्ड का कहना है कि वह कदम पीछे नहीं हटाएंगे।

ताकतवर एफ्रो-एशियाई लॉबी द्वारा हॉवर्ड की उम्मीदवारी नामंजूर किए जाने के बाद सीए के अध्यक्ष जैक क्लार्क ने कहा कि हॉवर्ड को नामांकित करने वाले ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के लिए यह हताशा वाली बात है।

फॉक्स स्पोर्टस ने क्लार्क के हवाले से कहा आप समझते हैं कि इससे आईसीसी के साथ हमारे रिश्तों पर कोई असर नहीं पड़ेगा लेकिन ऐसा नहीं है। जॉन हॉवर्ड जैसे बड़े कद के व्यक्ति को उस जिम्मेदारी के योग्य नहीं समझा गया।

सीए के अध्यक्ष क्लार्क ने हालांकि इसके लिए भारत को दोष देने से मना किया लेकिन कहा कि इस मुल्क का आईसीसी पर वित्तीय दबदबा होना अच्छी बात नहीं है। फॉक्स स्पोर्टस ने क्लार्क के हवाले से कहा जो कुछ हुआ, उसके लिए भारत दोषी नहीं है वह शक्तिशाली पक्ष है लेकिन यही सचाई भी है।

इस बीच, हॉवर्ड ने आईसीसी के अध्यक्ष पद के लिए नामांकन वापस नहीं लेने को कहा है। उन्होंने कहा कि मैं नाम वापस नहीं लूंगा। मेरी मुखालिफत कर रहे क्रिकेट बोर्डों ने निजी बातचीत में भी अपने कदम की साफ वजह नहीं बताई। यह बहुत अजीबोगरीब स्थिति है।

गौरतलब है कि अगर हॉवर्ड को चुन लिया जाता तो वह वर्ष 2012 में आईसीसी के अध्यक्ष बन जाते। ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने हॉवर्ड के नाम का प्रस्ताव किया था और इस सिलसिले में सिंगापुर में हुई बैठक में सिर्फ इंग्लैंड ने ही उनके नाम का समर्थन किया था। वह भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका तथा अफ्रीकी टीमों के क्रिकेट बोर्डों का समर्थन नहीं जुटा सके थे।

माना जा रहा है कि हॉवर्ड की उम्मीदवारी को अफ्रीकी बोर्डों ने इसलिए खारिज किया क्योंकि उन्होंने अपने प्रधानमंत्रित्व काल में जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे के खिलाफ टिप्पणी की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपमानित महसूस कर रहा है सीए, पीछे नहीं हटेंगे हॉवर्ड