DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना विवि शिक्षक संघ का चुनाव: खेमेबाजी से बदली तस्वीर

पटना विवि शिक्षक संघ चुनाव की सरगर्मी तेज हो गयी है। जसे-ौसे नामांकन फार्म भरने की तिथि नजदीक आ रही है गुटबाजी का दौर तेज हो गया है। कॉलेज व विभागों में विभिन्न गुटों के शिक्षक अपने-अपने उम्मीदवारों के पक्ष में जनमत जुटाने में लग गए हैं। वर्तमान कार्यकारिणी में भी फूट की खबरं जोरों पर हैं। अध्यक्ष व महासचिव अलग-अलग खेमे में चले गए हैं। इससे चुनावी तस्वीर ही बदल गयी है।ड्ढr ड्ढr पटना कॉलेज व साइंस कॉलेज में दिन भर पूटा कार्यकारिणी में फूट चर्चाओं के केंद्र में रहा। गुटबंदी की जो तस्वीर उभर कर सामने आ रही है उसमें तीन गुट बनता दिख रहा है। चर्चाओं पर गौर करं तो पहले गुट का नेतृत्व वरिष्ठ शिक्षक नेता डा. रामजतन सिन्हा कर रहे हैं। उनकी टीम में अध्यक्ष पद के उम्मीदवार डा. श्रीराम पद्मदेव हैं जबकि महासचिव पद के उम्मीदवार के रूप में वर्तमान महासचिव डा. रणधीर कुमार सिंह की उम्मीदवारी बतायी जा रही है।ड्ढr ड्ढr वहीं दूसर गुट का नेतृत्व डा. अमर कुमार सिंह कर रहे हैं। इनकी टीम में अध्यक्ष पद के उम्मीदवार डा. धर्म प्रकाश और महासचिव पद के लिए डा. एसबी लाल उम्मीदवार बताए जा रहे हैं। तीसरे गुट का नेतृत्व वर्तमान पूटा अध्यक्ष डा. यूके सिन्हा स्वयं कर रहे हैं और वह भी अध्यक्ष पद के उम्मीदवार हैं। इनकी टीम में डा. शारदेंदु महासचिव पद के लिए उम्मीदवार हैं। अब माना जा रहा है कि चुनाव प्रचार के दौरान इन तीनों गुटों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर चलेगा। इसमें यह देखना मजेदार होगा कि वर्तमान अध्यक्ष व महासचिव एक-दूसर पर किस प्रकार आरोप लगाते हैं।ड्ढr इस संबंध में पूछे जाने पर पूटा अध्यक्ष ने कहा कि गुटबाजी का दौर जारी है। हालांकि उन्होंने तीन गुटों के गठन और महासचिव के अलग गुट से लड़ने के संबंध कुछ नहीं कहा, लेकिन इससे इंकार भी नहीं किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पटना विवि शिक्षक संघ का चुनाव: खेमेबाजी से बदली तस्वीर