अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुरली बने वनडे के भी सिरमौर गेंदबाज

श्रीलंकाई आफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने गुरुवार को यहां चौथे वनडे में भारतीय बल्लेबाज गौतम गंभीर को विकेटकीपर कुमार संगकारा के हाथों आउट कराने के साथ ही एकदिवसीय क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट लेने का रिकार्ड अपने नाम कर लिया। मुरली के वनडे कैरियर का यह 503 वां विकेट है और इस तरह उन्होंने पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वसीम अकरम के 502 विकेटों के रिकार्ड को पीछे छोड़ दिया। इसके साथ ही मुरली वनडे और टेस्ट दोनों में सर्वाधिक विकेट हासिल करने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज बन गए हैं। उन्होंने 125 टेस्ट मैचों में 76विकेट भी हासिल किए हैं। मुरली ने अपने 328 वें वनडे मैच में यह उपलब्धि हासिल की है। इससे पहले उन्होंने 327 मैचों में 22.66 के शानदार औसत से 502 विकेट लिए थे। उनका वनडे में अब तक का श्रेष्ठ प्रदर्शन 30 रन पर सात विकेट हैं। अकरम ने 356 वनडे में 23.52 के बेहतरीन औसत से 502 विकेट चटकाए थे। मुरलीधरन को इस सीरीज की शुरूआत के समय यह रिकार्ड तोड़ने के लिए तीन विकेटों की जरूरत थी लेकिन उन्हें इसके लिए चार मैचों तक इंतजार करना पड़ा। उन्होंने गत महीने पाकिस्तान के खिलाफ 500 विकेट पूरे किए थे। पाकिस्तान के ही पूर्व तेज गेंदबाज वकार यूनुस इस सूची में तीसरे नम्बर पर हैं जिन्होंने 322 वनडे में 27.53 के औसत से 416 विकेट लिए है। लेकिन उन्हें क्रिकेट को अलविदा कहे कई साल हो चुके हैं। पाकिस्तान के दो पूर्व गेंदबाजों के बाद मुरलीधरन के हमवतन चामिंडा वास इस सूची में चौथे नंबर पर हैं। उन्होंने 322 वनडे मैचों में 27.53 के औसत से 400 विकेट लिए हैं लेकिन उनकी बढती उम्र को देखते हुए मुरली का रिकार्ड सुरक्षित ही माना जाएगा। पांचवंे नंबर पर दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान शान पोलक हैं। पोलक ने 302 वनडे में 24.50 के औसत से 3विकेट लिए हैं। उनका केरियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 35 रन देकर छह विकेट है। मुरली ने गुरुवार के वनडे का सिरमौर गेंदबाज बनने के साथ ही अपने बेहद सफल अंतरराष्ट्रीय केरियर का एक और मुकाम हासिल कर लिया है। उनकी मौजूदा फिटनेस और फार्म को देखते हुए उनके 600 विकेट हासिल करने की संभावनाएं भी बड़ी अच्छी लग रही हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुरली बने वनडे के भी सिरमौर गेंदबाज