अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैसे खिलायें 2.50 रुपये में बिरयानी

सरकारी स्कूलों में चल रही मिड डे मिल योजना में सरकार खाने और पकाने के लिए मजबूर करती है। प्रत्येक बच्चा हर दिन 2.50 रुपये मिलता है। इसमें हर दिन अलग-अलग लजीज व्यंजन बच्चों को परोसने के लिए कहा गया है। कभी बिरयानी, तो कभी अंडा-फल देना है। ब्रांडेड सामान की खरीद के नये फरमान से शिक्षकों के पसीने छूटने लगे हैं। शिक्षकों के समक्ष विवशता यह है कि खिलायें तो कैसे, नहीं खिलायें तो फंसे। इसी कारण तकरीबन हर स्कूलों में एबसेंट छात्रों की हाजिरी बना कर राशि की मिड डे मिल को चलाया जा रहा है।ड्ढr बेड़ो में जहरीला दूध पीने से हुए हादसे के कारण शिक्षा विभाग और चौकन्ना हो गया है। अधिकारियों को मिड डे मिल पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया गया है। विभाग ने साफ कर दिया है कि स्कूलों के मध्याह्न् भोजन में चूक हुई, तो संबंधित शिक्षक बर्खास्त कर दिये जायेंगे। अपनी नौकरी बचाने की खातिर शिक्षकों ने सरप्लस हाजिरी के रसियो को और बढ़ा दिया है। दबी जुबान से कहते हैं-नौकरी बचाने के लिए चोरी करते हैं। अपने वेतन के पैसे से योजना तो नहीं चलायेंगे। सरकार को भी यह समझना चाहिए कि अंडा तीन रुपये में मिलता हैं। इसके लिे मिलता है 2.50 रुपये। इसी में रसोई गैस, सब्जी, दाल और खाना बनानेवाली का 20 पैसा निर्धारित है। यह कैसे संभव है।ड्ढr एक दिन भी अधिकारी चला कर दिखायें, तो जानेंड्ढr शिक्षक स्पष्ट कहते हैं कि सिर्फ एक दिन अधिकारी किसी स्कूल में मिड डे मिल मेनू के तहत खिला कर दिखा दें। निरीक्षण में उन्हें सिर्फ मेनू दिखता है। इसके अनुसार भोजन नहीं मिला, तो शो कॉज और सस्पेंड। अधिकारियों को कार्रवाई छोड़ शिक्षकों की मजबूरी समझनी चाहिए। विभाग की इस नीति से शिक्षक गुस्से में तो हैं, लेकिन किसी भी शिक्षक संगठनों ने इस मुद्दे को अब तक नहीं उठाया।ड्ढr न्यूनतम मजदूरी का दस फीसदी भी नहीं मिलताड्ढr स्कूलों में खाना बनानेवाली महिलाओं को सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम मजदूरी का दस फीसदी भी नहीं मिल पाता है। कई प्राथमिक स्कूलों में 30 से 40 बच्चे पढ़ते हैं। प्रति छात्र 20 पैसे देने का प्रावधान है। ऐसे में उन्हें हर रो छह से आठ रुपये ही मिलते हैं। ये महिलाएं स्कूल खुलते ही भोजन बनाने में जुट जाती हैं। दिन भर की मेहनत के बाद यह आलम है। कई स्कूलों में तो शिक्षक अपनी ओर से कुछ राशि दे देते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कैसे खिलायें 2.50 रुपये में बिरयानी