DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्पिनिंग मिल में अघोषित तालाबंदी

यूपी स्टेट स्पिनिंग मिल में गुरुवार से अघोषित तालाबंदी शुरू हो गई। तालाबंदी से मादूरों के सामने रोी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। मादूर संघ ने तालाबंदी के विरोध में प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोलने का एलान किया है।ड्ढr पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी द्वारा वर्ष 1में स्थापित इस मिल की माली हालत खस्ताहाल है। 50 हार तकवे वाली इस मिल में 25 हाार पुराने तकवे से उत्पादन वर्ष 2004-05 में ही बंद कर दिया गया था। अब उत्पादन बाकी बचे तकवों के सहार कियाोा रहा था। मादूर संघ के मंत्री अनिल त्रिपाठी ने बताया कि एक महीने पहले से ही प्रबंधन अघोषित तालाबंदी की साािश रच रहा था। वर्तमान क्षमता का भी पूरा उपयोग नहीं कियाोा रहा था।ड्ढr अचानक हुई अघोषित तालाबंदी से गुरुवार को मादूर दिन भर परशान रहे। श्रमिक नेता त्रिपाठी का कहना है कि मिल मैनेार और प्रेबंध निदेशक से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन सफलता नहीं है। उनका कहना है कि मैनेार व प्रबंध निदेशक के पास ही बाराबंकी की भी स्पिनिंग मिल का कार्यभार है। बाराबंकी में तो 50 हाार तकवे चला दिए गए लेकिन रायबरली में चालू तकवे भी बंद कर दिए गए।ोिला ट्रेड यूनियन काउंसिल श्रमिक संघ केोिलाध्यक्ष विाय शंकर अग्निहोत्री ने भी कहा कि स्पिनिंग मिल में अघोषित तालाबंदी का निर्णय पूरी तरह मादूर विरोधी है। मादूरों को न्याय दिलाने के लिए हर स्तर पर संघर्ष कियाोाएगा। कर्मचारियों नेोिलाधिकारी को ज्ञापन देकर रोगार उपलब्ध कराने की गुहार लगाई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्पिनिंग मिल में अघोषित तालाबंदी