अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यूपी चमकाने को 50 अरब की योचानाएँ

मुख्यमंत्री मायावती ने गुरुवार को प्रदेश के पाँच महानगरों लखनऊ, फैजाबाद-अयोध्या, कानपुर-बिठूर, इलाहाबाद और मेरठ के कायाकल्प के लिए 5056 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास किया। इस मौके पर उन्होंने पूर्ववर्ती सरकारों पर शहरों की बुनियादी जरूरतों और नियोजित विकास की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले 60 साल में शहरों की आबादी तो बढ़ती गई लेकिन उनके हिसाब से बुनियादी सुविधाओं का विस्तार नहीं हुआ। जिसका खामियाजा आम लोगों खासतौर से गरीबों को भुगतना पड़ा। उन्होंने कहा कि आम लोगों को बिजली, पानी, सड॥क, परिवहन, पार्किंग, आवास, सीवर, अस्पताल जैसी बुनियादी जरूरतें मुहैया कराना उनकी सरकार की प्राथमिकता है।ड्ढr उन्होंने कहा कि समग्र विकास की ये सभी परियोजनाएँ वर्ष 2040 की अनुमानित आबादी की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाई गई हैं। उनकी सरकार सीमित वित्तीय संसाधनों के अंदर प्रदेश का विकास कर रही है और जैसे-जैसे संसाधन बढ़ेंगे और शहरों का कायाकल्प भी इन शहरों की तर्ज पर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं के लिए धनराशि की व्यवस्था कर दी गई है। मुख्य सचिव हर महीने समीक्षा करेंगे।ड्ढr मुख्यमंत्री ने लोकार्पण-शिलान्यास समारोह में बताया कि आज जिन परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास किया गया है उनमें राजधानी लखनऊ के लिए 2421 करोड़ रुपए, मेरठ के लिए 526 करोड़ रुपए, कानपुर-बिठूर के लिए 850 करोड़ रुपए, इलाहाबाद के लिए 1026 करोड़ रुपए और फैजाबाद-अयोध्या के लिए 233 करोड़ रुपए की योजनाएँ शामिल हैं। फैजाबाद-अयोध्या समेत दूसरे शहरों के लिए अगर जरूरत होगी तो और भी धन दिया जाएगा। इस मौके पर मंत्री रामअचल राजभर, बाबू सिंह कुशवाहा, रामवीर उपाध्याय, फतेह बहादुर सिंह, विधानसभा अध्यक्ष सुखदेव राजभर आदि मौजूद थे। ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: यूपी चमकाने को 50 अरब की योचानाएँ