अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

.डीटीओ का मतलब दिन में लूटो

रांची और जमशेदपुर परिवहन दफ्तरों के बार में विभाग में लोकोक्ित है-प्रति दिन एक लाख रुपये से अधिक का ऊपरी सुविधा शुल्क न आया, तो घाटा लगता है। जी हां, यह कटु सच्चाई है।ड्ढr रांची परिवहन कार्यालय राजधानी के बीचो-बीच रहते हुए भी यहां सुविधा शुल्क (रिश्वत) का यह धंधा कभी खत्म नहीं हुआ। मोबाइल दारोगाओं के कॉकस को तोड़ने के बाद जिला परिवहन कार्यालयों में दिन दहाड़े जारी इस भ्रष्टाचार पर रोक लगेगी, राष्ट्रपति शासन में यह सरकार के समक्ष चुनौती है और जनता की यही अपेक्षा। रांची परिवहन कार्यालय के चारो ओर लगे दलालों के टेबल और उनके माध्यम से साहब के पास पहुंचनेवाले सुविधा शुल्क की जांच किसी भी समय की जा सकती है। इसमें शामिल अधिकारियों और कर्मचारियों की शिनाख्त की जा सकती है।ड्ढr वेसे जानकार बताते हैं कि यहां के कर्मी -अधिकारी पिछले एक महीने से खुश हैं क्योंकि अब उन्हें घूस का बड़ा हिस्सा ऊपर नहीं देना पड़ रहा। जबकि घूस की दर अभी भी पूर्व निर्धारित बनी हुई है। उसमें पेट्रोल की कीमत की तरह कोई तब्दीली नहीं हुई है। जानकार बताते हैं कि रांची और जमशेदपुर जसे कार्यालयों से रो 300 से अधिक नये लाइसेंस बनते हैं और उतने ही का रिन्युअल होता है।कुछ कार्यो के लिए पहले से तय रिश्वत का रटड्ढr ट्रक-बस के ऑनर बुक में वर्तमान पता दर्ज कराना - 2000 रुपयेड्ढr लर्निग लाइसेंस के लिए - 150 रुपयेड्ढr परमानेंट लाइसेंस के लिए - 250 रुपयेड्ढr लाइसेंस में वर्तमान पता दर्ज कराने में - 300 रुपयेड्ढr बस और ट्रक का रािस्ट्रेशन - 650 रुपयेड्ढr मोटर साइकिल-स्कूटर का रािस्ट्रेशन - 210 रुपयेड्ढr चार पहिया वाहन का रािस्ट्रेशन - 310 रुपयेड्ढr सात सीटर व्यवसायिक वाहन का रािस्ट्रेशन - 1200 रुपयेड्ढr नोट-यह सिर्फ साहब का निजी सुविधा शुल्क है। अन्य सहायकों और दलालों की दर इसमें मोल-तोल के अनुसार अलग से जुड़ जाते हैं। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: .डीटीओ का मतलब दिन में लूटो