DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एशिया कप में युवराज की कमी खलेगी : धोनी

एशिया कप में युवराज की कमी खलेगी : धोनी

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार को स्वीकार किया कि श्रीलंका में होने वाले एशिया कप में उन्हें युवराज सिंह की कमी खलेगी। उन्होंने आशा जताई कि बाएं हाथ का यह बल्लेबाज जल्द ही राष्ट्रीय टीम में वापसी करेगा। खराब फार्म में चल रहे युवराज को श्रीलंका दौरे से बाहर कर दिया गया था।

धोनी ने कहा कि युवराज की अनुपस्थिति में युवा खिलाड़ियों को अतिरिक्त जिम्मेदारी निभानी होगी। धोनी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि निश्चित तौर पर हमें युवराज की कमी खलेगी। यदि पिछले दो साल में आप उसके प्रदर्शन को देखोगे तो वह मध्यक्रम में हमारी असली ताकत रहा है। वह जिस तरह से बल्लेबाजी करता है वैसा बमुश्किल ही कोई अन्य बल्लेबाज कर पाता है। उन्होंने कहा कि हमें उसकी कमी खलेगी लेकिन यदि कोई युवा उसकी जगह भरने में सफल रहता है तो यह अच्छा रहेगा।
 
युवराज के साथ फिटनेस मुख्य समस्या रही है लेकिन धोनी को इसमें संदेह नहीं कि पंजाब का यह क्रिकेटर जल्द ही भारतीय टीम में वापसी करेगा। उन्होंने कहा कि युवराज जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ी के लिए वापसी करना मुश्किल नहीं होगा। मुझे आशा है कि वह जल्द से जल्द वापसी करेगा।

धोनी ने कहा कि मैं युवराज का बड़ा प्रशंसक हूं और उसके टीम में होने पर मुझे खुशी होती है। वह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक है। विशेषकर वह पहले और दूसरे पावरप्ले में जिस तरह से बल्लेबाजी करता है वह बेजोड़ है।

भारत एशिया कप में अपने अभियान की शुरुआत 16 जून को बांग्लादेश के खिलाफ डाम्बुला में करेगा। धोनी ने कहा कि उन्होंने चार देशों के इस टूर्नामेंट के लिये अभी कोई रणनीति नहीं बनाई और श्रीलंका पहुंचने पर ही इस पर विचार करेंगे। धोनी ने कहा कि जब तक आप वहां की परिस्थितियों से वाकिफ नहीं हो जाते तब तक कुछ कहना मुश्किल है। टीम संयोजन के बारे में कहना आसान नहीं है। हम वहां कुछ अभ्यास सत्र में भाग लेंगे और विकेट के मिजाज को देखेंगे। हम परिस्थितियों के अनुसार ही रणनीति बनाएंगे।
 
उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण टूर्नामेंट है। हम लंबे अर्से बाद एकदिवसीय क्रिकेट खेलेंगे। हम डाम्बुला में खेलेंगे जहां बहुत बड़ा स्कोर नहीं बनता। दिमाग में यह बात रखना जरूरी है लेकिन हम पहली बार वहां नहीं खेलेंगे। धोनी से जब टीम के तेज गेंदबाजी विभाग के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमारे पास पिछले दो साल से वास्तव में तेज गेंदबाजी का आलराउंडर नहीं है। हमारे पास ऐसा कोई तेज गेंदबाज नहीं है जो दस ओवर करने के बाद बल्ले से भी योगदान दे सके।
 
उन्होंने कहा कि तेज गेंदबाजी विशेषकर उप महाद्वीप में मुश्किल काम है। हमारे पास कुछ तेज गेंदबाज है लेकिन वे वास्तव में अच्छा नहीं कर पाए हैं। उन्हें अधिक से अधिक मौका देना अच्छा रहेगा। धोनी ने अगले साल उपमहाद्वीप में होने वाले विश्व कप के बारे में कहा घरेलू दर्शकों के सामने खेलने के कारण टीम पर अतिरिक्त दबाव रहेगा। उन्होंने कहा कि विश्व कप के करीब पहुंचने के बाद मुझे नहीं लगता कि टीम में अधिक बदलाव किए जाएंगे। हम टीम को परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाने का पूरा मौका देना चाहेंगे। सौ से अधिक वनडे खेलने वाले खिलाड़ियों का टीम में होना अच्छा रहेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एशिया कप में युवराज की कमी खलेगी : धोनी