अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माइंस आवंटन में विलंब से छिन सकती है 1500 की रोचाी

राज्य सरकार द्वारा माइंस नहीं उपलब्ध कराये जाने की वजह से झारखंड के सबसे बड़े स्पंज आयरन प्लांट आधुनिक एलाय एंड पावर लिमिटेड में प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से करीब 1500 लोगों की रोी छिन सकती है और कांड्रा नामक स्थान के महत्व पर कालिख पुत सकती है। कभी यह स्थान भारत प्रसिद्ध ग्लास फैक्ट्री की वजह से पूरी दुनिया में प्रसिद्ध था, लेकिन उस कंपनी के बंद होने से करीब ढाई हाार लोग बेरोगार हो गये। इस वीराने में बहार लाने की कोशिश की आधुनिक एलाय एंड पावर लिमिटेड नामक कंपनी ने, लेकिन माइंस नहीं मिलने की वजह से 1500 लोगों के रोगार पर खतर के बादल मंडरा रहे हैं। यह कंपनी एमओयू के मुताबिक 0 करोड़ रुपये निवेश करने की जगह करीब 400 करोड़ रुपये का निवेश कर चुकी है। इतना ही नहीं, माइंस के लिए भी जो आधारभूत संरचना खड़ी करनी थी, वह भी कंपनी कर चुकी है, लेकिन राज्य सरकार का खनन विभाग अभी तक उसे माइंस उपलब्ध नहीं कराया है। इस मंदी के दौर में माइंस आवंटन नहीं होने के कारण अगर यह कंपनी बंद हो जाती है, तो डेढ़ हाार लोगों के सामने आयी थाली छिनने के लिए पूरी तरह राज्य सरकार ही जिम्मेवार होगी। कैसी विडंबना है कि एक ओर राज्य सरकार के मुखिया राज्य में निवेश बढ़ाने और बेरोगारों को रोगार उपलब्ध कराने के लिए कोई भी मौका हाथ से जाने देना नहीं चाहते, वहीं उसका खनन विभाग माइंस आवंटन के संचिका निष्पादन में अनावश्यक विलंब कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: माइंस आवंटन में विलंब से छिन सकती है 1500 की रोचाी