अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हत्थे चढ़ा वाणिज्य कर अधिकारी

निगरानी अन्वेषण ब्यूरो ने रिश्वखोरी के नए तरह के मामले का भंडाफोड़ कर एक करोड़पति अफसर को गिरफ्तार किया है। इसमें घूस ‘कैश’ की जगह ‘काइंड’ में ली जा रही थी। सीतामढ़ी के डुमरा में तैनात वाणिज्य कर अधिकारी वकील प्रसाद यादव को तब पकड़ा गया जब वह सिया टड्रर्स (सीतामढ़ी) के मनोज कुमार से 15 हजार रुपए का वाटर मोटर पम्प लेकर अपने यहां लगवा रहे थे। व्यवसाई ने विजिलेंस में शिकायत की थी कि टैक्स का मामला सलटाने के लिए श्री यादव उससे मोटर पम्प मांग रहे हैं और नहीं देने पर प्रतिष्ठान बंद कराने की धमकी दी है।ड्ढr ड्ढr विजिलेंस एडीजी अनिल कुमार सिन्हा ने बताया कि पहली बार किसी लोकसेवक को घूस में नकदी की जगह सामान लेते पकड़ा गया है। निगरानी टीम में निरीक्षक विनोद कुमार सिंह, रणवीर सिंह, एएसआई संजय कुमार योगेन्द्र कुमार तथा आरक्षी ओम प्रकाश आदि शामिल थे। विजिलेंस ने श्री यादव के पटना के बेली रोड स्थित अभियंता नगर (दानापुर) में छह कट्ठा जमीन पर बने आलीशान कृष्णा कुटीर आवास पर भी छापा मारा। विजिलेंस ने इसकी कीमत 60 लाख रुपए आंकी है। अफसर के घर से तीन बैंकों के पांच खाते बरामद किए गए हैं जिनमें 5 लाख रुपए से अधिक जमा हैं। एक-एक खाता श्री यादव की पत्नी और बेटी के नाम भी है। ब्यूरो के मुताबिक श्री यादव की पत्नी नीना देवी ने बैंक खातों को पिछवाड़े पानी में फेंक दिया था जिसे किसी तरह निकाला गया। इसके साथ ही वहां से चार लाख की एलआईसी डिपॉजिट, एक लाख रुपए मूल्य के 47 शेयर सर्टिफिकेट, जमीन के कागजात और 58 हजार रुपए के जेवरात, एक अल्टो कार और 15-20 लाख रुपए के घरलू उपकरण भी मिले हैं।ड्ढr ड्ढr डीएसपी पीएन मिश्रा ने बताया कि श्री यादव वर्ष 1में स्वास्थ्य विभाग में क्लर्क थे। वर्ष 2004 में बीपीएससी की सीमित सेवा परीक्षा पास कर वह वाणिज्य कर अधिकारी बने। श्री यादव को पटना लाया जा रहा है। छापेमारी टीम में एसपी मंजू झा और डीएसपी विजय कुमार श्रीवास्तव शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हत्थे चढ़ा वाणिज्य कर अधिकारी