DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार: हड़ताली कर्मचारियों को बर्खास्त करेगी सरकार

बिहार में अराजपत्रित कर्मचारियों की 32 दिनों से जारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर सख्त रुख अख्तियार करते हुए अब राज्य सरकार ने उन्हें बर्खास्त करने का निर्णय लिया है जबकि कर्मचारियों ने आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है। राज्य के मुख्य सचिव आर.जे. एम़ पिल्लै की अध्यक्षता में शुक्रवार देर रात हुई उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में उपस्थित कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी ने शनिवार को बताया कि हड़ताली कर्मचारियों की बर्खास्तगी की प्रक्रिया सोमवार से प्रारंभ होगी। राज्य सरकार ने हड़ताली कर्मचारियों को काम पर वापस आने का जो नोटिस दिया था उसकी मियाद पूरी हो चुकी है। उन्होंने कहा कि हड़ताल की अवधि में कर्मचारियों को ‘काम नहीं तो वेतन नहीं’ के तहत वेतन का भुगतान नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हड़ताली कर्मचारियों को जिद छोड़ काम पर लौटना चाहिए। उल्लेखनीय है कि बिहार सरकारी सेवक आचार नियमावली के नियम 8(2) के तहत सरकार ने हड़ताल को अवैध घोषित करते हुए कर्मचारियों को दो-दो बार काम पर लौटने की चेतावनी दी थी। दूसरी ओर हड़ताली कर्मचारियों ने हड़ताल को और तेज करने की चेतावनी दी है। बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ (गोपगुट) के महासचिव रामबली प्रसाद ने कहा कि सरकार यदि कर्मचारियों को बर्खास्त या निलंबित करती है तो आने वाले समय में कर्मचारी ही सरकार को बर्खास्त कर देंगे। उन्होंने कहा कि यह मामला पटना हाई कोर्ट में विचाराधीन है और सरकार निर्णय ले रही है जो न्यायालय की भी अवमानना है। राज्य के अराजपत्रित कर्मचारी महासंघों और राज्य सचिवालय संघ तथा शिक्षकों के सात संगठनों वाला बिहार राज्य प्राथमिक-माध्यमिक शिक्षाकर्मी संयुक्त मोर्चा के लगभग तीन लाख कर्मचारी छठे वेतनमान को केन्द्र सरकार की तर्ज पर लागू करने की मुख्य मांग को लेकर सात जनवरी से हड़ताल पर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिहार: हड़ताली कर्मचारियों होंगे बर्खास्त