DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तिहाड़ में हिरासत में मौत असामान्य बात नहीं : उच्च न्यायालय

तिहाड़ में हिरासत में मौत असामान्य बात नहीं : उच्च न्यायालय

दिल्ली उच्च न्यायालय ने उस आरोपी के परिजन को 6.54 लाख रुपए का मुआवजा देने का आदेश दिया है जिसकी तिहाड़ में मौत हो गई थी। इसके साथ ही अदालत ने कहा कि राजधानी की जेल में यह असामान्य घटना नहीं है।

न्यायमूर्ति एस मुरलीधर ने कहा कि दर्ज मामलों के अनुसार तिहाड़ जेल में हिरासत में मौत कोई असामान्य घटना नहीं है। इसके साथ ही अदालत ने जेल अधिकारियों की याचिका को खारिज कर दिया कि कैदी की मौत खुद से लगाई गई चोटों के कारण हुई थी।

उल्लेखनीय है कि 2007 में तिहाड़ जेल भेजे जाने के दो दिन बाद ही रहस्यमयी स्थितियों में विनोद कुमार की मौत हो गई थी। अदालत ने कुमार की पत्नी की याचिका पर करीब 6.54 लाख रुपए का मुआवजा देने का आदेश दिया।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तिहाड़ में हिरासत में मौत असामान्य बात नहीं : उच्च न्यायालय