अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुसहा मिशन पूरा, अब लड़ेंगे बाढ़ से

ुसहा मिशन पूरा करने के बाद राज्य सरकार अब आगामी बाढ़ से लड़ने की तैयारी में जुट गयी है। पूर्वी एवं पश्चिमी कोसी तटबंध के कमजोर बिन्दुओं की मरम्मत और एंटी रोन कार्य के लिए 74 करोड़ राशि विभाग ने आवंटित कर दी है। कोसी बराज से कोपरिया तक (125 कि.मी. पूर्वी तटबंध) और भारदह से घोंघेपुर (126 कि.मी.) पश्चिमी कोसी तटबंध के उन तमाम बिन्दुओं पर अभी से इांीनियरों को काम शुरू कर देने का निर्देश दे दिया गया है, जहां बांध कमजोर स्थिति में है और नदी का रुख तटबंध से सटे स्परों पर बीते वर्ष बाढ़ के दौरान खतर की घंटी बजाई थी। कुसहा में कोसी बांध टूटने के बाद फाीहत झेल चुकी राज्य सरकार अब अगले बाढ़ से पहले तक भारतीय प्रभाग में पड़ने वाले लगभग 240 कि.मी. पूर्वी एवं पश्चिमी तटबंधों पर पहले से ही सुरक्षात्मक कार्य कर लेने और कुसहा की पुनरावृत्ति न हो उसके लिए अभी से सरकार तैयारी में जुटी है। यह पहला मौका है जब बाढ़ से पहले वर्षो से जर्जर तटबंधों पर एंटी रोन कार्य के लिए इतनी अधिक राशि दी गयी है। कुसहा से लौटने के बाद सोमवार को पटना रवाना होने से राज्य के पूर्व जल संसाधन मंत्री बिजेन्द्र प्र. यादव ने सहरसा में हिन्दुस्तान को बताया कि कुसहा में ब्रीच क्लोजिंग के बाद सरकार की नजर पूर्वी एवं पश्चिमी कोसी तटबंधों के उन बिन्दुओं पर है जिनके संबंध में हाई लेबल कमेटी ने रिपोर्ट सौंपी है। मंत्री श्री यादव ने कहा कि पहली बार बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यो के लिए 74 करोड़ राशि का प्रावधान किया गया है जो एक रिकार्ड है। उन्होंने कहा कि इनमें से 38 करोड़ राशि नेपाल प्रभाग में पड़ने वाले तटबंधों पर एंटी रोन कार्य में खर्च की जाएगी। जल संसाधन विभाग के इस प्रस्ताव पर शीघ्र ही कैबिनेट की मुहर लगने वाली है। इधर विभाग के प्रधान सचिव अजय बी. नायक ने बताया कि मार्च से सुरक्षात्मक काम शुरू हो जाएगा। टेंडर निकालने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। हालांकि पूछने पर जल संसाधन मंत्री श्री यादव ने कहा कि तटबंध की यह हालत कोई एक दिन में नहीं हुई है। कई दशकों से लगातार हुई उपेक्षा का नतीजा ही कुसहा प्रलय के रूप में सामने आया। उन्होंने कहा कि अब दोनों तटबंधों के पुनस्र्थापन को 3रोड़ की बृहद योजना तैयार की गयी है। इनमें 86 करोड़ अकेले जर्जर हो चुके कोसी बराज के जीर्णोद्धार पर खर्च किया जाना है। इसके अलावा 86 करोड़ राशि कोसी से जुड़ी नहरों के पुनस्र्थापन पर खर्च की जाएगी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कुसहा मिशन पूरा, अब लड़ेंगे बाढ़ से