DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मन्दिर के मसले परभिड़े दो मंत्री

राम मन्दिर के मसले को लेकर राज्य सरकार के दो मंत्री आपस में भिड़ गए हैं। भवन निर्माण मंत्री छेदी पासवान और लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग के मंत्री अश्विनी कुमार चौबे बयान युद्ध में शामिल हो गए हैं। श्री चौबे ने तो श्री पासवान को अपनी सीमा में रहने की सलाह दे डाली है। उन्होंने कहा है कि राम मन्दिर शुरू से भाजपा का मुद्दा रहा है और वह इसे कभी नहीं छोड़ सकती है। उल्लेखनीय है कि राम मन्दिर का निर्माण कराने के बार में भाजपा की घोषणा पर श्री पासवान ने तीखी टिप्पणी की थी।ड्ढr ड्ढr श्री चौबे ने कहा कि भाजपा एक राष्ट्रीय पार्टी है और उसे किसी की नसीहत की जरूरत नहीं है। भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह एक सुलझे हुए राजनेता हैं और उनके खिलाफ श्री पासवान द्वारा की गई टिप्पणी अपने-आपमें हास्यास्पद है। उन्होंने कहा कि राम मन्दिर भाजपा का एजेंडा है और अगर किसी को इससे परहेा है तो उसका रास्ता खुला हुआ है। राम को इस देश से कोई अलग नहीं कर सकता है। भाजपा किसी वैशाखी के सहार राजनीति नहीं करती है। उन्होंने कहा कि राज्य सभा सांसद एजाज अली ने भी पिछले दिनों भाजपा के खिलाफ टिप्पणी की थी। ऐसा करते समय वे भूल गए थे कि भाजपा के सहार ही उन्होंने राज्यसभा का मुंह देखा है।ड्ढr ड्ढr श्री चौबे ने दलित मुस्लिम और दलित इसाई को अनुसूचित जाति का दर्जा दिलवाने के जद यू के चुनावी मुद्दे को दुर्भाग्यपूर्ण कहा है। उन्होंने कहा कि यह जनता दल यू का एजेंडा हो सकता है, एनडीए का नहीं। भाजपा को छोड़कर सभी दलों में मुस्लिम वोटों के लिए मारामारी मची हुई है। भाजपा सर्वधर्म समभाव के आधार पर सबको साथ लेकर चलती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मन्दिर के मसले परभिड़े दो मंत्री