DA Image
24 जनवरी, 2020|5:50|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अफसरों को लगी सीएम की फटकार

बरबीघी में मंगलवार को आयोजित जनता के दरबार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनशिकायतों के प्रति उदासीन अधिकारियों को फटकार लगाई। लगभग ढ़ाई घंटे चले इस कार्यक्रम में हाारों लोगों ने अपने आवेदन दिए और इस क्रम में कई बार विभिन्न विभागोंे के आलाधिकारी तलब किए गए। भीषण गर्मी और भीड़ के कारण बेगूसराय के सीएस कार्यक्रम स्थल पर बेहोश होकर गिर गए। इन्हें सीएम ने कई बार तलब किया था। मुख्यमंत्री घुम-घुमकर आमलोगों से खुद मिलकर आवेदन लेते रहे और जरूरत पड़ने पर संबंधित अधिकारियों को भी तलब करते रहे। आवेदनों में सर्वाधिक शिक्षा, स्वास्थ्य और बीपीएल खाद्यान्न से जुड़े मामले थे। उन्होंने विकलांग आवेदकों को तत्काल जांच कर सभी सरकारी लाभ दिलाने का निर्देश सीएस व संबंधित एसडीओ को दिया। डीहा के राजनीतिक यादव ने प्राथमिक विद्यालय डीहा के छह कमरों को बंद कर उसका उपयोग सामुदायिक भवन के रूप में करने, बलिया अनुमंडल कार्यालय से सेवानिवृत वैद्यनाथ मिश्र ने 1 वर्ष 1 माह से पेंशन नहीं मिलने, रामाधार चौधरी ने गुरुदास इन्सटीच्यूट ऑफ इािंनियरिंग एवं टेक्नोलॉजी पटियाला में पढ़ रहे पुत्र चंदन कुमार को पढ़ाई के लिए आर्थिक सहायता देने आदि की गुहार लगाई। वहीं सरस्वती विकास संस्कृत उ.विद्यालय शोकहारा के लिपिक विष्णुदेव राय ने अकारण निलंबित कर वेतन बंद करने, कुरहा की शमीना खातून ने नि:संतान रहने के बावजूद उन्हें पीला कार्ड व वृद्धावस्था पेंशन के नहीं मिलने की शिकायत की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: अफसरों को लगी सीएम की फटकार