DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

सोच में कट रहा दिन..अब इवीएम बक्शा खुलने में देरी नहीं है। जेतना लोग चुनाव लड़े हैं, सब अपनी जीत मान कर चल रहे हैं। लेकिन जीतेगा कोई एक ही। बाकी जो बच जायेंगे, उनके द्वारा संजोया गया सपना चूर हो जायेगा। छोटा या बड़ा, कोई भी नेता हो, सबको इस आलम से गुजरना ही है। रांची के भइया भी अपने प्रति आत्मविश्वास से भर हुए हैं। मन में तमाम बात सोचे हुए हैं कि अबकी आ गये, तो मौका हाथ से नहीं जाने देंगे। रांची का नाम पूर देश में चमकायेंगे। इ सब बात ऊपर वाले पर निर्भर है। राजधानी को फ्लाई ओवर से पाट देना है। चारों ओर आकर्षक मकानों में सब से शांति से रहें, इसे पूरा कर दिखाना भइया का लक्ष्य भी है। इन सब के बीच भइया भी चौधरी जी को नहीं भूलते हैं। कमल फूल वाले ने खूब दौड़ाया है। दोपहर में सत्तू तक पिलवा दिया। ले देकर वही बात.. कि ऊपर वाला किसके माथे पर सेहरा बंधवाने का जतन करता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग