DA Image
26 फरवरी, 2020|10:04|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वेलेंटाइन डे के समर्थन में उतरे राजेंद्र व अरुंधती

श्रीराम सेना और गुलाबी चड्ढी अभियान के जंग के बीच ये लेखक दिल्ली विश्वविद्यालय में कल छात्रों के बीच लोकतंत्र और प्रेम का संदेश देंगे। इस मौके पर काव्य पाठ, संगीत आदि के कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला संघ की राष्ट्रीय सचिव कविता कृष्णन ने कहा कि श्रीराम सेना जैसी फासीवादी ताकतें भारतीय संस्कृति का तालिबानीकरण कर रही है और यह प्रवृत्ति मेंगलूरु में पब की घटना, केरल के विधायक की बेटी के अपहरण और वेलेंटाइन डे के विरोध के रूप में देश के कोने कोने में दिखाई दे रही है। इसलिए हमने कल दिल्ली विश्वविद्यालय के कला परिसर में इस समारोह का आयोजन किया है। हम लोग 14 तारीख को एक रैली भी निकालेंगे। उन्होंने कहा कि जिस तरह तालिबान ने अपने यहां की स्त्रियों पर हर तरह की पाबंदी लगा रखी है, उसी तरह अपने देश में भी हिन्दुत्ववादी-फासीवादी ताकतें महिलाआें की स्वतंत्रता पर अंकुश लगाना चाहती है। अगर पुरुष को संविधान स्वतंत्रता की अनुमति देता है तो महिलाआें को स्वतंत्रता क्यों नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम इसका विरोध रचनात्मक स्तर पर करना चाहते हैं। इसलिए हमने लेखकों और संस्कृतिकर्मियों को आमंत्रित किया है। इसमें छात्र और शिक्षक आदि भाग लेंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: वेलेंटाइन डे के समर्थन में उतरे राजेंद्र व अरुंधती