भारत-चीन से ज्यादा आसियान में अमेरिकी निवेश - भारत-चीन से ज्यादा आसियान में अमेरिकी निवेश DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत-चीन से ज्यादा आसियान में अमेरिकी निवेश

भारत-चीन से ज्यादा आसियान में अमेरिकी निवेश

अमेरिका से दीर्घकालिक पूंजी निवेश आकर्षित करने के मामले में दस सदस्यों वाला दक्षिण पूर्व एशियाई देशों का सहयोग संघ (आसियान) एशिया की दो प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं चीन और भारत से आगे है।

अमेरिका के व्यापार प्रतिनिधि रान किर्क ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि मैं शर्त लगाता हूं कि आप से अगर पूछा जाए कि आसियान, चीन या भारत में से कौन अमेरिका के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) का प्रमुख स्थान है, तो आप का जबाव होगा चीन या आप में से कुछ लोग भारत का नाम ले सकते हैं। पर आसियान इन देशों से काफी आगे हैं। चीन से तीन गुना और भारत से 10 गुना ज्यादा अमेरिकी प्रत्यक्ष विदेश निवेश हो रहा है।

आसियान देश कुल मिला कर अमेरिका के पांचवें सबसे बड़े व्यापार सहयोगी हैं। वर्ष 2008 में उनका अमेरिका से 200 अरब डॉलर की वस्तुओं और सेवाओं का व्यापार हुआ था। किर्क ने आसियान क्षेत्र के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि उसके सदस्य देश अपनी अर्थव्यवस्थाओं को एकीकृत करने में लगे हैं और 2015 तक एकहरे आर्थिक क्षेत्र का रूप लेना चाहते हैं। अमेरिका उनको यह लक्ष्य साधने में सक्रिय सहयोग कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत-चीन से ज्यादा आसियान में अमेरिकी निवेश