DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाक जनता के साथ हमारा झगड़ा नहीं : प्रणव

शांति प्रक्रिया में आए विराम के बावजूद भारत की ओर से शुक्रवार को कहा गया कि पाकिस्तान मुंबई हमले में शामिल जरूर है, लेकिन दोनों देशों के बीच यातायात संपर्क व जनता के बीच आपसी संपर्क समाप्त नहीं किया जाएगा। संसद में दिए अपने एक बयान में विदेश मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा कि भविष्य के रिश्ते पाकिस्तान द्वारा मुंबई हमले के मामले में दिखाई गई गंभीरता पर निर्भर करेंगे। मुखर्जी ने लोकसभा में कहा कि हम रिश्तों के एक ऐसे मोड़ पर खड़े हैं, जहां पाकिस्तान सरकार को तय करना है कि वह भविष्य में भारत के साथ किस तरह का रिश्ता चाहता है। मुखर्जी ने आगे कहा कि यह ज्यादा कुछ इस बात पर निर्भर करेगा कि पाकिस्तान मुंबई हमले के मामले में कितनी औचित्यपूर्ण कार्रवाई करता है। पाकिस्तानी जनता के प्रति अपनी सकारात्मक भावना का इजहार करते हुए मुखर्जी ने कहा कि सरकार ने दोनों देशों के बीच यातायात संपर्क व जनता के बीच आपसी संपर्क बरकरार रखने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि मैं इस बात को साफ कर देना चाहता हूं कि पाकिस्तानी जनता के साथ हमारा कोई झगड़ा नहीं है। हम उसकी बेहतरी की कामना करते हैं। हम यह बिल्कुल नहीं चाहते कि उसे इस परिस्थिति के परिणाम भुगतने पड़ें या इसके लिए वह बेवजह जिम्मेदार ठहराई जाए। उधर, पाकिस्तान ने शुक्रवार को फिर पैंतरा बदलते हुए भारत से भी मुंबई हमले शामिल उसके अपने नागरिकांे का नाम उजागर करने की मांग कर डाली। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्दुल बसित ने यहां जारी एक बयान में कहा कि पाकिस्तान सरकार चाहती है कि भारत मुंबई हमले पर ईमानदार दिखे तथा अपने उन लोगों और इकाइयों का नाम उजागर करे जो इस कृत्य में शामिल थे। इस हमले में पाकिस्तानियों के साथ कुछ भारतीयों के भी शामिल होने की बात सामने आई है। बसित ने भारतीय विदेशमंत्री प्रणव मुखर्जी के उस बयान पर प्रतिक्रिया व्यकत की है जिसमें मुखर्जी ने एक बार फिर संसद में शुक्रवार को मांग की कि पाकिस्तान आतंकवादी ढांचे को नष्ट करे। उधर गुरुवार को मुंबई के पुलिस आयुक्त हसन गफूर ने कहा था कि मुंबई हमले के मामले में जिन सोलह लोगों की तलाश है उनमें कुछ भारतीय भी हैं। बसित ने पाकिस्तान के पुराने राग को अलापते हुए कहा कि हमारा स्पष्ट मत है कि मुंबई के आतंकवादी हमले की सच्चाई का भारत में लगातार घरेलू राजनीति की बाध्यताआें के साथ घालमेल हो रहा है। इस हमले की पाकिस्तान समेत पूरे अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने निंदा की थी। उन्होंने कहा कि मुखर्जी का बयान और कुछ नहीं बल्कि पाकिस्तान के खिलाफ सुविचारित भारतीय रुख का एक और राग है। उन्होंने कहा कि यह बयान मुंबई हमले से संबंधित सारे तथ्य सामने लाने तथा दोषियों को सजा दिलाने की गंभीर पहल के अनुरुप नहीं है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अब तक भारत के आतंरिक मामलों में टिप्पणी करने से बचता रहा है और उसने बहुत ही जिम्मेदारी और सयंम से काम लिया है। हमने क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा के हित में सहयोग का हाथ बढ़ाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पाक जनता के साथ हमारा झगड़ा नहीं : प्रणव