अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंटर की साढ़े पांच हचाार सीटें हो सकती हैं कम

रांची और जमशेदपुर में इंटरमीडिएट की 5.5 हाार सीटें कम हो सकती हैं। इंटर से डिग्री की पढ़ाई अलग नहीं होने के कारण नये ऑटोनॉमस कॉलेजों को इंटर को लेकर तकनीकी अड़चन में फंसे हैं। यूजीसी के प्रावधानों के मुताबिक ऑटोनॉमस कॉलेजों में इंटर की पढ़ाई नहीं हो सकती। इसे देखते हुए संत जेवियर्स कॉलेज ने पिछले ही वर्ष जूनियर कॉलेज की स्थापना कर इंटर की पढ़ाई अलग कर दी थी। यदि रांची यूनिवर्सिटी के तीन ऑटोनॉमस कॉलेजों में इंटर बंद हुआ, तो साढ़े पांच हाार सीटें कम हो जायेंगी।ड्ढr वर्ष 1में ही कोर्ट ने डिग्री से इंटर शिक्षा को अलग करने का निर्देश दिया था। इस आलोक में वर्ष 2004 में सरकार ने हाईकोर्ट में शपथ पत्र देकर सत्र 2005-06 से इंटर और डिग्री की पढ़ाई अलग करने की बात कही थी, परंतु इस पर अमल नहीं हो सका।ड्ढr रांची कॉलेज के प्राचार्य डॉ आनंदभूषण के अनुसार शिक्षक और कर्मियों की कमी है। शिक्षक इंटर से लेकर पीजी तक की कक्षाएं ले रहे हैं। उन पर काफी दबाव है, इसलिए झारखंड एकेडेमिक कौंसिल से शिक्षकों के लिए प्रति क्लास अतिरिक्त भत्ते के रूप में 200 रुपये देने की मांग की गयी है, परंतु कौंसिल मात्र 100 रुपये प्रति क्लास देने को तैयार है। उन्होंने कहा कि हमे निर्देश का इंतजार है, इसके बाद फार्म का डेट निकाला जायेगा। उधर मारवाड़ी कॉलेज ने फिलहाल इस सत्र के लिए इंटर व्यवस्था मार्निग शिफ्ट में करने का निर्णय लिया है।ड्ढr इंटर की और दस हाार सीटें कम होंगी!ड्ढr यूजीसी ने रांची यूनिवर्सिटी से चार और कॉलेजों के ऑटोनॉमस का प्रस्ताव मांगा है। रांची यूनिवर्सिटी ने रांची वीमेंस कॉलेज, ग्रेजुएट स्कूल फॉर वीमेंस कॉलेज सहित चार कॉलेजों को प्रस्ताव भेजने को कहा है। इस आलोक में रांची वीमेंस कॉलेज की प्राचार्या डॉ मंजू सिन्हा ने ऑटोनॉमस का प्रस्ताव यूजीसी में जमा कर दिया है। यदि और चार कॉलेज ऑटोनॉमस हो गये, तो इंटर की और दस हाार सीटें कम हो जायेंगी। इसके बाद इस क्षेत्र में इंटर शिक्षा का जो हाल होगा, बस उसकी कल्पना ही की जा सकती है। 65 से कम अंकवालों को फार्म नहींरांची। संत जेवियर्स कॉलेज में 65 प्रतिशत से कम अंकवाले छात्र को नामांकन फार्म नहीं दिया जायेगा। कॉलेज में 11 मई से एडशिन फार्म मिलेंगे। फार्म का शुल्क 200 रुपये है। फार्म हाल के काउंटर पर सुबह दस बजे से एक बजे तक और 1.30 से तीन बजे तक दिये जायेंगे। कॉलेज के प्राचार्य फादर डॉ निकोलस टेटे के अनुसार यहां पहले साइंस में 75 प्रतिशत, कॉमर्स में 70 प्रतिशत और आर्ट्स में 65 प्रतिशत लानेवाले छात्रों को ही नामांकन फार्म दिये जायेंगे। कॉलेज में इस वर्ष से ऑनलाइन फार्म जमा करने और नामांकन पर रोक लगा दी गयी है। अब इस कॉलेज में नामांकन के इच्छुक छात्र नेट के माध्यम से नामांकन फार्म डाउनलोड तो कर सकते हैं, लेकिन फार्म जमा करने उन्हें स्वयं कॉलेज आना होगा या फार्म शुल्क डीडी के रूप में फार्म के साथ लगा कर कॉलेज को पोस्ट कर सकते हैं। ऑनलाइन फार्म जमा करने और नामांकन में हो रही तकनीकी अड़चन के कारण यह फेरबदल किया गया है। हालांकि पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी बोकारो में नामांकन फार्म दिये जायेंगे।ड्ढr मारवाड़ी कॉलेज : 60 फीसदी अंक जरूरीड्ढr मारवाड़ी कॉलेज में नामांकन फार्म पाने के लिए कम से कम 60 फीसदी अंक अनिवार्य है। यहां 11 मई से नामांकन फार्म का वितरण शुरू होगा। फार्म का शुल्क मात्र एक रुपये है। आइएससी और आइकॉम के लिए 60 प्रतिशत और आइए के फार्म के लिए 50 फीसदी कट् ऑफ माक्र्स निर्धारित किये गये हैं। ब्वायज और गर्ल्स सेक्शन के फार्म ब्वायज सेक्शन से ही दिये जा रहे हैं। कॉलेज के प्राचार्य डॉ जावेद अहमद के अनुसार कॉलेज की वेबसाइ्नट से भी एडमिशन फार्म डाउनलोड किये जा सकते हैं।ड्ढr संत अन्ना इंटर कॉलेज का फॉर्म 11 मई सेड्ढr रांची। संत अन्ना इंटरमीडिएट कॉलेज का एडमिशन फॉर्म 11 मई से मिलेगा। फॉर्म की कीमत सौ रुपये रखी गयी है। यह जानकारी प्राचार्या सिस्टर सोसन बाड़ा ने दी। उन्होंने बताया कि संस्थान में विज्ञान, कला और वाणिज्य संकाय की पढ़ाई होती है। छात्रावास, प्रैक्िटकल लैब, कॉमन रूम, कैंटीन और छात्रवृत्ति की सुविधा उपलब्ध है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इंटर की साढ़े पांच हचाार सीटें हो सकती हैं कम