DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वदेशी डंडे से मंदी भगाएगी भाजपा

भारतीय जनता पार्टी लोकसभा चुनाव के बाद यदि सत्ता में आई तो वह यूपीए सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन का खुलासा करने के लिये श्वेत पत्र लायेगी। पार्टी ने संकेत दिये हैं कि वह सौ दिन में अर्थव्यवस्था को पार्टी में ले आयेगी। इसके लिये उसकी योजना तैयार है। एनडीए सरकार में वित्त मंत्री रहे यशवंत सिन्हा ने बताया कि हम दुनिया की आर्थिक व्यवस्थाओं से इतर हैं। हमने विश्वास खो दिया है। हालत यह है कि इस संकट के दौर में हमार पास पूर्णकालिक वित्त मंत्री तक नहीं है। याद रहे कि नागपुर अधिवेशन में अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने साम्यवाद और पूंजीवादी अर्थव्यवस्थाओं के असफल होने की बात कहते हुये स्वदेशी आर्थिक माडल विकसित करने की बात कही थी। पार्टी के पीएम इन वेटिंग लालकृष्ण आडवाणी ने भी अध्यक्ष की बात पर मोहर लगाते हुये फिक्की की आम सभा में सरकार आने पर सौ दिन में आर्थिक संकट दूर करने का ऐलान किया था। इसी बहस को आगे बढ़ाने और उस पर चर्चा करने के लिये आडवाणी ने अपने निवास पर देश के वरिष्ठ अर्थ शास्त्रियों से शनिवार को मुलाकात की। चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि अगर एनडीए को अगले लोकसभा चुनावों में बहुमत मिला तो आर्थिक क्षेत्र के लिए उसकी सर्वोच्च प्राथमिकता नए रोजगार के अवसर पैदा करना और अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मुहैया कराना होगा। सूत्रों ने बताया कि उन्होंने भारत के विकास माडल में भारी बदलाव करने का संकेत देते हुए कहा कि हम यह सुनिश्चित करेंगे कि कृषि, ग्रामीण अर्थव्यवस्था, लघु एवं मझौले उद्योग और असंगठित क्षेत्र को देश की आर्थिक प्रगति के लिए भावी रणनीति में यथोचित स्थान मिले। इसका मुख्य लक्ष्य हर हाथ को काम, हर खेत को पानी सुनिश्चित करना होगा। आडवाणी ने कहा कि सत्ता मिलने पर एनडीए सरकार श्रम कानूनों की दोबारा समीक्षा करेगी। उन्होंने कहा कि मौजूदा श्रम कानून नौकरियां बचाने में पूरी तरह से निष्प्रभावी साबित हुए हैं। सूत्रों के अनुसार सभी अर्थ शास्त्रियों ने आशंका जताई कि इस समय देश की अर्थव्यवस्था खराब हालत में है जो आने वाले दिनों में और बद्तर हो सकती है। यही नहीं आने वाले दिनों में एक करोड़ से अधिक नौकरियां खत्म हो सकती है। बैठक में हिस्सा लेनेवाले अनेक अर्थशास्त्रियों ने कहा कि इस समय देश के समक्ष सबसे बडा संकट विश्वास का है। विश्वास बहाली के वास्ते नई सरकार को अर्थव्यवस्था को पुन: पटरी पर लाने के लिए अल्पकालिक ओर दीर्घकालिक दोनों तरह की अर्थव्यवस्था के लिए साहसिक और तुरंत फैसले लेने होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्वदेशी डंडे से मंदी भगाएगी भाजपा