अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीटीएस में जवान मरा, हंगामा

नाथनगर स्थित कांस्टेबल ट्रेनिंग स्कूल (सीटीएस) में शनिवार की सुबह प्रशिक्षु जवान की मौत के बाद पुलिसकर्मी भड़क गए और सीटीएस प्रशासन पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर हंगामा शुरू कर दिया। प्राचार्य विनोद कुमार ने पुलिसकर्मियों को बुलाकर बातचीत की और मामले का जांच कराने का आश्वासन दिया। दोपहर बाद सीटीएस परिसर में शव को सलामी देने के बाद गृह जिला भेज दिया गया।ड्ढr ड्ढr कैमूर जिले के सोनहम थाना क्षेत्र के महुअत गांव का हवलदार लालमुनि राम भागलपुर जिला बल में कार्यरत था। वह 17 नवंबर से सीटीएस में एएसआई की ट्रेनिंग कर रहा था। पुलिसकर्मियों का आरोप है कि शारीरिक प्रशिक्षण के अलावा कानून की पढ़ाई के लिए उन्हें भेजा गया है लेकिन उम्रदराज पुलिसकर्मियों को राइफल लेकर मैदान का पांच चक्कर लगवाया जा रहा है।ड्ढr ड्ढr पांच दिन पूर्व मैदान में राइफल दौड़ के दौरान लालमुनि राम के सीने में दर्द हो गया था। दवा के लिए वह पैसा लाने मित्र के पास गया था तो उसे अनुपस्थित कर दिया गया। उपस्थिति का आवेदन ऑफिस में जमा करने पर फेंक दिया गया था। चार दिनो से बैरक में वह बीमार पड़ा था लेकिन कोई देखने नहीं आया। शुक्रवार की शाम हालत बिगड़ने के बाद उसे सीटीएस अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन डाक्टर ने जेएलएनएमसीएच रफर कर दिया। सीटीएस प्रशासन द्वारा अस्पताल ले जाने के लिए गाड़ी नहीं दी गई। शनिवार की सुबह पुन: हालत बिगड़ने पर जेएलएनएमसीएच ले जाया गया लेकिन अस्पताल पहुंचने के पूर्व ही लालमुनि ने दम तोड़ दिया। पुलिसकर्मियों का आरोप है कि ट्रेनिंग की आड़ में एससीएसटी पुलिसकर्मियों को सीटीएस प्रशासन प्रताड़ित करा रहा है जबकि ट्रेनिंग के बाद वे भी पदाधिकारी बनेंगे। उन्हें कानून की जानकारी के बदले नए पुलिसकर्मियों की तरह दौड़ाया जा रहा है। ट्रेनिंग कर रहे सभी पुलिसकर्मी 45 से लेकर 55 वर्ष से भी अधिक उम्र के हैं। बाद में ट्रेनिंग कर रहे पुलिसकर्मी प्राचार्य से मिले और ज्यादती का दुखड़ा सुनाया। प्राचार्य ने कहा कि जवान की मौत विभाग के लिए बड़ी क्षति है। आरोपों की जांच की जाएगी। पीड़ित परिवार को जल्द से जल्द मुआवजा दिलाने का प्रयास किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सीटीएस में जवान मरा, हंगामा