अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कनाडा को निवेश के लिए न्यौता

ाास रणनीतिक क्षेत्रों में निवेश बढ़ाने के लिहाज से भारत ने कनाडा की कंपनियों को यहां संयुक्त उपक्रम स्थापित करने के लिए आमंत्रित किया है। इनमें ऑटोमोबाइल, खनन, ढांचागत क्षेत्र, पेट्रोलियम, पर्यावरण और बिजली उत्पादन अहम हैं। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री कमलनाथ ने कनाडा के उद्योग मंत्री टोनी क्लेमेंट के साथ द्विपक्षीय बैठक में कहा कि भारत को सिर्फ ढांचागत क्षेत्र में अगले पांच सालों के दौरान 480 अरब डॉलर चाहिये, लिहाजा कनाडा को इस मौके का लाभ उठाना चाहिये। उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय व्यापार में तो खासी बढ़ोत्तरी हुई है लेकिन विदेशी निवेश के मामले में अभी और तेजी लाये जाने की जरूरत है। भारत सब्जियों और फलों के शीर्ष उत्पादक देशों में एक है लेकिन खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में कनाडा की तकनीकी विशेषज्ञता से भारत लाभ उठा सकता है क्योंकि इनके कुल उत्पादन का महा चार फीसदी हिस्सा ही प्रोसेस हो पा रहा है। इसी प्रकार ऑटो और दवा उद्योग क्षेत्रों में द्विपक्षीय निवेश की जरूरत है।डब्ल्यूटीओ मामलों में बोलते हुये उन्होंने कहा कि वैश्विक वित्तीय संकट ने दोहा दौर की समझौता वार्ता को जल्द समाप्त करने की जरूरत पैदा कर दी है ताकि गरीबी और बेरोगारी की समस्या से निपटा जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कनाडा को निवेश के लिए न्यौता