अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चाांच में जाली पायी गयीं हचाारों रसीदें

अलकतरा घोटाले के कई पहलू हैं। जून 2008 के पहले बिटुमिन की खरीदारी के नाम पर छह करोड़ 15 लाख रुपये का भुगतान दिखाया गया। सीएजी की जांच में इसकी रसीदें भी जाली पायी गयीं। बिटुमिन का उठाव कहां से हुआ, यह पता नहीं चल रहा है। टिप्पणी की गयी है कि 2008 में पांच माह के भीतर 41 करोड़ सात लाख रुपये की बिटुमिन खरीद के दस्तावेज मिले, लेकिन जब जांच की गयी तो एक हजार रसीदें जाली पायी गयीं। राज्य के पथ निर्माण से संबंधित 15 डिवीजन के 54 ठेकेदारों ने 308 रसीदें जमा की। ये रसीदें अप्रैल 2002 से मार्च 2007 के बीच की हैं। इनके आधार पर छह करोड़ 74 लाख रुपये की बिटुमिन के खरीदारी का दावा किया गया है। ये रसीदें भी संदेह केड्ढr घेर में है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चाांच में जाली पायी गयीं हचाारों रसीदें