अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संक्षिप्प्त खबर

धरना चार मार्च कोड्ढr झारखंड राज्य सहकारिता बैंक कर्मचारी यूनियन नौ सूत्री मांगों को लेकर चार मार्च को राजभवन के समक्ष धरना देगी। इस बाबत महासचिव एससी कर्मकार ने राज्यपाल एवं उनके सलाहकार को मांग पत्र सौंपा है। इसमें सहकारी बैंक की स्थापना की मांग की गयी है। मांगों में किसानों को कम ब्याज पर ऋण दिलाना, वर्षो से कार्यरत दैनिकभोगी मजदूरों को नियमित करना, बिना कारण हटाये गये सिंहभूम जिला सहकारी बैंक के 45 श्रमिकों को बहाल करना, छठा वेतन पुनरीक्षण का लाभ देना भी शामिल है।ड्ढr वीसीआइ ने फिर पत्र भेजाड्ढr वेटनरी काउंसिल ऑफ इंडिया ने फिर बिरसा कृषि विवि को पत्र भेजा है। इसमें शिक्षकों का रिक्त पद शीघ्र नहीं भरने पर वेटनरी कॉलेज के डिग्री की मान्यता खत्म कर देने की चेतावनी दी है। काउंसिल के कोटे से छात्रों को नहीं भेजने की बात भी कही है। कॉलेज में कुल 50 सीटें हैं। इसमें 15 प्रतिशत वीसीआइ की हैं। इसी तरह शिक्षकों के करीब पद हैं। इसमें करीब 40 प्रतिशत रिक्त है। विवि का कहना है कि बहाली के लिए आरक्षण रोस्टर क्लीयरंस का मामला राज्य सरकार के पास लंबित है। यह मिलते ही बहाली की प्रक्रिया शुरू कर दी जायेगी।ड्ढr ब्रह्मर्षि समाज की बैठकड्ढr ब्रह्मर्षि समाज कांके शाखा की बैठक रविवार को डॉ डीएन पांडेय की अध्यक्षता में हुई। मौके पर हरमू में 22 फरवरी को आहूत रैली की समीक्षा की गयी। उसमें यहां से अधिक से अधिक संख्या में भाग लेने का निर्णय लिया गया। इसमें शैलेंद्र कुमार, जीएम शर्मा, डॉ प्रशांत कुमार, डॉ सी सिंह, कृष्ण कुमार सिंह, जगत नारायण सिंह भी मौजूद थे।ड्ढr पीजी रिसर्च कौंसिल गठितड्ढr रांची यूनिवर्सिटी के वीसी प्रो एए खान के निर्देश पर यूनिवर्सिटी एक्ट की धारा 32 के तहत मानविकी संकाय में पीजी रिसर्च कौंसिल का गठन कर दिया गया है। इसमें वीसी प्रो एए खान, प्रोवीसी, मानविकी संकायाध्यक्ष, सभी यूनिवर्सिटी प्रोफेसर के अलावा बांग्ला के डॉ एनके बेरा, उर्दू के डॉ हसन राा, दर्शनशास्त्र के डॉ डी गुहा एवं जनजातीय व क्षेत्रीय भाषा विभाग के डॉ जीआर गंझू सदस्य बनाये गये हैं। इसकी अधिसूचना जारी कर दी गयी है।ड्ढr राज्यपाल को ज्ञापन सौंपाड्ढr स्कूलों के रिटायर शिक्षकों ने पेंशनधारियों को सात प्रतिशत महंगाई भत्ते के भुगतान की मांग की है। इससे संबंधित ज्ञापन 16 फरवरी को माध्यमिक शिक्षक संघ के पूर्व मंत्री जटाधारी मिश्र ने राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से कहा गया कि इससे पहले भी इस संबंध में आग्रह किया जा चुका है। साथ ही कहा गया कि 2006 से नये वेतनमान के आधार पर पेंशन का निर्धारण किया जाये।ड्ढr कार्यशाला आज सेड्ढr राज्य संसाधन केंद्र आद्री की ओर से 17 से 1रवरी तक राज्य स्तरीय नवसाक्षर साहित्य लेखन कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा। जनजातीय भाषा में पुस्तक तैयार करने के लिए इस कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। संस्था के मीडिया प्रभारी दिलीप कुमार के अनुसार साक्षरता कार्यक्रमों को जनजातीय इलाकों में पहुंचाने के लिए नवसाक्षरों सहित पुस्तक के प्रकाशन पर भी ध्यान दिया जा रहा है। सीसीएल के तीन प्रोजेक्ट को फॉरस्ट क्लीयरंस रांची। झारखंड सरकार ने सीसीएल के तीन प्रोजेक्ट को फॉरस्ट क्लीयरंस दे दिया है। यह कारो, कोनार एवं खासमहल है। इसकी फाइल केंद्र सरकार को भेज दी गयी है। अब उसे वहां विभिन्न स्टेा से गुजरना होगा। स्थिति के मद्देनजर अगले साल तक सभी प्रक्रियाएं पूरी होने की उम्मीद है। सीएमडी आरके साहा ने बताया कि तत्कालीन वन सचिव सुखदेव सिंह सहित अन्य अधिकारियों की इसमें अहम् भूमिका रही है। इसके शुरू हो जाने से कंपनी के उत्पादन में फिर से जान आ सकती है। अभी कई खदानें काफी पुरानी हो गयी हैं। इसकी सीम काफी गहराई में चली गयी है। इस वजह से वहां से उत्पादन महंगा पड़ रहा है।ड्ढr पिपरवार की हड़ताल वापसड्ढr रांची। दी झारखंड कोलियरी मजदूर यूनियन ने पिपरवार में 20 फरवरी से आहूत बेमियादी हड़ताल वापस ले ली है। सीएमडी आरके साहा और यूनियन अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी की रविवार को 33 सूत्री मांगों पर बातचीत हुई। महासचिव सनत मुखर्जी ने बताया कि सीएमडी ने मांगों पर सकारात्मक कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। यह भी कहा कि किसी के प्रति दुर्भावना से काम नहीं किया जायेगा। प्रबंधन उनकी समस्या का समाधान करगा।ड्ढr 25 को हो सकती है बैठकड्ढr रांची। सीसीएल बोर्ड की बैठक 25 फरवरी को होने की संभावना है। इसमें कंपनी के संबंध में कई नीतिगत निर्णय लिये जा सकते हैं। मैनपावर बजट भी पेश किया जा सकता है।ड्ढr चुनाव 22 मार्च कोड्ढr रांची। गांधीनगर क्लब के सदस्यों की बैठक रविवार को वरीय कार्मिक अधिकारी आलोक गुप्ता की अध्यक्षता में हुई। इसमें करीब 110 सदस्यों ने हिस्सा लिया। मौके पर मैनेजिंग कमेटी के पुनर्गठन का निर्णय लिया गया। इसके लिए 22 मार्च को चुनाव कराने को लेकर सहमति बनी। राज्यपाल ने सलाहकारों में कुछ और विभाग बांटेड्ढr संवाददाता रांची राज्यपाल सैयद सिब्ते राी ने अपने तीनों सलाहकारों को कुछ और विभागों की जिम्मेवारियां सौंपी हैं। पूर्व से आवंटित विभागों के अलावा इन्हें जो नये विभाग सौंपे गये हैं, उसका ब्योरा इस प्रकार है-ड्ढr जी कृष्णन : सांस्थिक वित्त एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन विभाग, आपदा प्रबंधन एवं मंत्रिमंडल (निर्वाचन विभाग)।ड्ढr सुनीला बसंत : स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण, जल संसाधन, विधि एवं निबंधन विभाग।ड्ढr टीपी सिन्हा : भवन निर्माण, कला संस्कृति-खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग।ड्ढr सनद रहे कि सुनीला बसंत ने राज्यपाल से आग्रह किया था कि कला संस्कृति खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग उनसे वापस लिया जाये।अब तक नहीं मिलीड्ढr है आयोग की मंजूरीरांची। अगले साल की राज्य वार्षिक योजना पर योजना आयोग की अब तक मंजूरी नहीं मिली है। झारखंड के आलाधिकारियों के साथ दिल्ली में आयोग की बैठक हुई। सोमवार को सलाहकारों ने राज्य सरकार द्वारा तैयार विभागवार योजनाओं के बार में जानकारी प्राप्त की।ड्ढr मंगलवार को आयोग की पूरी टीम राज्य के आलाधिकारियों के साथ बैठक करगी। राज्य के सीएस एके बसु, विकास आयुक्त एसके चौधरी, वित्त सचिव राजबाला वर्मा, योजना सचिव सुधीर प्रसाद आयोग की बैठक में भाग लेंगे। राज्य सरकार 8200 करोड़ रुपये की राज्य योजना को बजट में शामिल कर चुकी है। योजना ड्राफ्ट पर आयोग की मंजूरी के बाद ही उसे बजट में शामिल किया जाना है। मंगलवार को बजट पेश हो रहा है। बगैर आयोग के अनुमोदन के राज्य योजना की स्कीम को बजट में शामिल किये जाने को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। राज्य सरकार ने 8200 करोड़ रुपये की राज्य योजना बनाने की सूचना आयोग को दे दी है, लेकिन सोमवार तक आयोग से मंजूरी की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है।ड्ढr स्थापना दिवस आजड्ढr रांची। झारखंड वैश्य संघर्ष मोरचा का स्थापना दिवस 17 फरवरी को विधायक आवास सभागार में मनाया जायेगा। मौके पर राजनीति, समाजसेवा, साहित्य एवं प्रशासन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले समाज के 15 लोगों को सम्मानित किया जायेगा। मोरचा के केंद्रीय पदाधिकारियों की घोषणा की जायेगी। कार्यक्रम का उद्घाटन बीपी केसरी करंगे। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संक्षिप्प्त खबर