DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्लाक प्रमुख के घर तैनात दो सुरक्षा गार्डो की हत्या

यमुनापार के औद्योगिक थाना क्षेत्र का लवायन गाँव बुधवार की सुबह गोलियों की तड़तड़ाहट से दहल उठा। चाका के सपा ब्लाक प्रमुख दिलीप मिश्र के आवास में घुसे आधा दजर्न हमलावरों ने बरामदे में सो रहे दो निजी सुरक्षा गार्डो को गोलियों से छलनी कर दिया। हमलावर घर में घुसने की कोशिश में थे लेकिन ब्लाक प्रमुख के साले ने जवाबी फायरिंग की तो बदमाशों को भागना पड़ा।

डीआईजी समेत तमाम पुलिस अधिकारी मौके पर पहुँच गए। ब्लाक प्रमुख फरार चल रहे हैं। उन पर बीस हजार का इनाम घोषित है और संपत्ति की कुर्की हो चुकी है। शाम होते होते इस सनसनीखेज घटना में यूटर्न आ गया। मारे गए गार्ड के बेटे ने फरार चल रहे दिलीप मिश्र, ड्राइवर श्रवण कुमार मौर्या और दिलीप मिश्र के साले धर्मेन्द्र पाण्डेय के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज करा दी। पुलिस ने धर्मेन्द्र को गिरफ्तार कर लिया है। जो तथ्य सामने आ रहे हैं उसके मुताबिक, दिलीप मिश्र अपने साथियों संग घर आए थे। गार्डो ने पुलिस को सूचना देनी चाही तो उन्हें मार दिया गया और दुश्मनों को फँसाने की कोशिश की गई।

25 जून 2009 को लवायन कला गाँव में अपराधी पप्पू निषाद समेत तीन लोगों की हत्या के मामले में ब्लाक प्रमुख दिलीप मिश्र पर आरोप लगे थे। वह फरार चल रहे हैं। उनकी चल अचल सम्पत्ति भी कुर्क कर ली गई है। उनकी गिरफ्तारी के लिए एक साल से अभियान चल रहा है। ब्लाक प्रमुख के घरवालों ने सुरक्षा के लिए दो सिक्योरिटी गार्ड रखे थे। चित्रकूट जिले के मऊ छिबला गाँव निवासी भैरव प्रसाद (40) और टिकरा गाँव निवासी दिनेश कुमार सिंह (38) को दस दिन पहले ही रखा गया था। रात में दोनों गार्ड असलहों के साथ बरामदे में तख्त पर सो रहे थे।

बुधवार की सुबह करीब साढ़े चार बजे दीवार फांदकर कुछ असलहाधारी घर में घुस पड़े। बदमाशों की संख्या आधा दजर्न से अधिक थी। बदमाशों ने गार्डो को गोलियों से छलनी कर दिया। गार्डो को उठने तक का मौका नहीं मिला।
इससे पहले कि बदमाश अंदर घुस कर किसी और को मौत के घाट उतारते बगल के कमरे में सो रहे ब्लॉक प्रमुख के साले धर्मेन्द्र कुमार पाण्डेय ने राइफल से जवाबी फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद हमलावर गोलियाँ चलाते हुए निकल भागे।

दोहरे मर्डर से सनसनी फैल गई। छत और तख्त पर खून का तालाब बन गया था। पुलिस ने दोनों शवों को वहाँ से हटवा दिया। खबर पाकर डीआईजी बीबी शर्मा समेत तमाम अफसर पहुँच गए। डॉग स्कवॉयड और फील्ड यूनिट की टीमें भी मौके पर पहुँची। दिन भर चली जाँच के बाद पूरा मामला ही उलट गया। दिनेश के बेटे रणविजय की तहरीर पर पुलिस ने ब्लाक प्रमुख दिलीप मिश्र, उनके साले धर्मेन्द्र पाण्डेय और ड्राइवर श्रवण कुमार के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया।

श्रवण को गिरफ्तार कर पुलिस पूछताछ कर रही है। डीआईजी का कहना है कि पूरा मामला संदिग्ध है। घर में बदमाशों के घुसने के कोई प्रमाण नहीं मिले। देर रात तक जाँच में सबकुछ साफ हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ब्लाक प्रमुख के घर तैनात दो सुरक्षा गार्डो की हत्या