DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नर्स की कमी दूर करेंगी एएनएम

स्वास्थ्य विभाग ने नर्स की कमी दूर करने का रास्ता खोज निकाला है। अब एक नर्स पर तीन ऑक्जेलरी नर्सिग मेडवाइफ (एएनएम) तैनात की जाएगी। इसके लिए उन्हें विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा। इलाज के दौरान मरीजों को किसी प्रकार की समस्या न हो। इसे ध्यान में रखकर इसकी योजना तैयार की गई है। स्वास्थ्य विभाग के डायरेक्टर जनरल डॉ. नरवीर सिंह ने इसके आदेश दे दिए हैं। 


   सूबे में नर्स की कमी दूर करने की योजना है। स्टाफ नर्स की जगह अब एएनएम तैनात की जाएंगी। जिले के विभिन्न अस्पतालों में करीब 50 से अधिक नर्स का पद पिछले कई महीने से रिक्त है। इनको भरने के लिए बादशाह खान अस्पताल में ओपेन साक्षत्कार भी कराए गए। इसके बावजूद ट्रेंड नर्स नहीं मिल पाई। इसके चलते स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में मरीजों को परेशानियां ङोलनी पड़ रही हैं। विभाग ने इस कमी को दूर करने का रास्ता खोज निकाला है। डिप्टी सिविल सजर्न का कहना है नर्स की जगह  एएनएम तैनात की जाएंगी। कुछ महीने तक जिला अस्पताल में प्रशिक्षण देने के बाद उन्हें  स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में तैनात कर दिया जाएगा।

क्यों नहीं मिल रही नर्स
- सरकारी अस्पताल में निजी की तुलना में वेतन कम
- अवासीय सुविधा नहीं
- कर्मचारियों की कमी से छूट्टी में दिक्कतं
- काम का दबाव ज्यादा
- ट्रेंड नर्स की कमी
- नर्सो की विदेशों में मांग
- छह महीने काम करने के बाद निजी अस्पताल में अच्छे वेतन का ऑफर

डॉयरेक्टर जनरल डॉ. नरवीर सिंह: नर्स की कमी को दूर करने का निर्णय लिया गया है। इसके आदेश जारी कर दिए गए हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नर्स की कमी दूर करेंगी एएनएम