DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैन ऑफ द सीरीज की दौड़ में सबसे आगे सचिन

मैन ऑफ द सीरीज की दौड़ में सबसे आगे सचिन

अपने बल्ले की धमक से प्रतिद्वंद्वी गेंदबाजों को थरथर्राने वाले सचिन तेंदुलकर इंडियन प्रीमियर लीग में न सिर्फ सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज को मिलने वाले ओरेंज कैप के प्रबल दावेदार हैं बल्कि वह मैन ऑफ द सीरीज की दौड़ में सबसे आगे बने हुए हैं।

यह भी दिलचस्प है कि इन दोनों पुरस्कारों के लिए भारतीय स्टार बल्लेबाज को एक अन्य दिग्गज क्रिकेटर जाक कैलिस से कड़ी चुनौती मिल रही है। ओरेंज कैप के लिए इन दोनों बल्लेबाजों की होड़ फिलहाल म्यूजिकल चेयर रेस बनी हुई है। कभी वह तेंदुलकर के सिर की शोभा बढ़ाती है तो अगले दिन फट से कैलिस के पास पहुंच जाती है।

तेंदुलकर ने अभी तक इस टूर्नामेंट में 12 मैच में 54.20 की औसत से 542 रन बनाए हैं और उन्होंने कल दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ 30 रन बनाकर ओरेंज कैप फिर से हासिल कर ली है। कैलिस भी उनसे अधिक पीछे नहीं हैं। इस दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज के नाम पर 12 मैच में 66.00 की औसत से 528 रन दर्ज हैं। तीसरे नंबर पर काबिज सुरेश रैना (12 मैच में 400 रन) इन दोनों से काफी पीछे हैं।

मैन ऑफ द सीरीज के लिए इन दोनों दिग्गज क्रिकेटरों के बीच कांटे की टक्कर दिख रही है। तेंदुलकर को यदि अच्छी कप्तानी के भी अंक मिलेंगे तो कैलिस का गेंदबाजी में प्रदर्शन उनका पक्ष मजबूत कर देता है। इस आलराउंडर ने अब तक आठ विकेट लिए हैं।

वैसे जब मैन ऑफ द सीरीज का चयन होता है तो उसमें कुल मैन ऑफ द मैच भी अहम भूमिका निभाते हैं जिसमें तेंदुलकर अपने इस करीबी प्रतिद्वंद्वी से आगे हैं। तेंदुलकर अब तक चार जबकि कैलिस तीन बार मैन ऑफ द मैच बने हैं।

तेंदुलकर और कैलिस के मैन ऑफ द सीरीज और ओरेंज कैप की दौड़ में आगे रहने से आईपीएल में इस बार इतना तो तय हो गया है कि यह दोनों पुरस्कार किसी आस्ट्रेलियाई को नहीं मिलेंगे। पिछले दो आईपीएल में इन दोनों पुरस्कार पर आस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों ने कब्जा जमाया था।

राजस्थान रायल्स के शेन वाटसन जहां 2008 में मैन आफ द सीरीज बने थे वहीं उनके हमवतन और किंग्स इलेवन पंजाब के शान मार्श ने ओरेंज कैप हासिल की थी। दक्षिण अफ्रीका में 2009 में खेले गए आईपीएल में चैंपियन डेक्कन चार्जर्स के कप्तान एडम गिलक्रिस्ट मैन ऑफ द सीरीज बने थे जबकि एक अन्य आस्ट्रेलियाई मैथ्यू हेडन ने ओरेंज कैप हासिल की थी।

टूर्नामेंट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज को मिलने वाली पर्पल कैप अभी डेक्कन चार्जर्स के स्पिनर प्रज्ञान ओझा (18 विकेट) के पास है। रायल चैलेंजर्स बेंगलूर के आर विनयकुमार और दिल्ली डेयरडेविल्स के अमित मिश्रा 15-15 विकेट लेकर दूसरे स्थान पर है। इससे पहले 2008 में रायल्स के पाकिस्तानी गेंदबाज सोहेल तनवीर जबकि 2009 में चार्जर्स के आरपी सिंह ने पर्पल कैप हासिल की थी।

जहां तक आईपीएल थ्री में मैन ऑफ द मैच का सवाल है तो तेंदुलकर और कैलिस दो ही ऐसे खिलाड़ी है जिन्होंने तीन या इससे अधिक बार यह पुरस्कार हासिल किया है। यूसुफ पठान, मनोज तिवारी, एंड्रयू साइमंडस, मुरली विजय और सौरव गांगुली दो-दो बार मैन ऑफ द मैच बन चुके हैं। वैसे अभी तक जो 48 मैच खेले गए हैं उनमें से 28 बार भारतीय खिलाड़ियों को मैच का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैन ऑफ द सीरीज की दौड़ में सबसे आगे सचिन