DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बरसों से बेडियों में जकड़ा है काका

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में इलाज के लिए पैसे न होने की वजह से एक दंपति ने मानसिक तौर पर अस्वस्थ अपने पुत्र को बीते 12 वर्षों से जंजीरों में जकड़ रखा है।

उमेश उर्फ काका नाम का यह युवक दिल्ली-देहरादून राजमार्ग पर गांव फलौदा के बाहर ही एक छोटी सी झोपड़ी में रहता है। उसके पैरों में मोटी-मोटी संकलें पहनाई गई हैं जबकि कभी उसका भी भरा-पूरा परिवार था। काका की पत्नी चन्द्रकिरण व दो बच्चों भी उसकी इस अवस्था को देखकर साथ छोड़े चुके हैं। अब काका का खुद पर काबू नहीं है। गांव के लोग उससे बचने की कोशिश करते हैं क्योंकि उन्हें डर है कि वह कभी भी उन पर हमला कर सकता है।

काका के मां-बाप की आर्थिक स्थिति बेहद ही दयनीय है। उन्होंने जितना संभव हो सका उसका उपचार कराया लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। उसके पिता बुधराम को उम्मीद है कि कोई व्यक्ति या संस्था फरिश्ता बनकर उनके बेटे का इलाज कराएगी और उनका बेटा बेडियों से आजाद हो जाएगा। उनका कहना है, ''गरीबी ने अब हमारें आंसुओं को भी पी लिया है। हम हमेशा ईश्वर से उसके ठीक होने की कामना करते हैं।''

काका की मां भी कहती हैं कि वह किसी को नुकसान न पहुंचाए, इसलिए उसको जंजीरों से बांधकर रखा है। उनको उम्मीद है कि मानसिक विकलांगों की संस्थाओं, स्वयंसेवी अस्पतालों और समाजसेवी लोगों से उन्हें मदद मिलेगी। वह कहती हैं कि गरीबी के कारण वे लोग यह दिन देखने को मजबूर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बरसों से बेडियों में जकड़ा है काका