DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विद्यापीठ: नकल रोकने को महिला उड़ाका दल

पन्द्रह अप्रैल से आरंभ होने वाली महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के दूसरे चरण की परीक्षाओं की तैयारी पूरी हो गई है। वाराणसी, चंदौली, भदोही, सोनभद्र, बलिया, मिर्जापुर में स्थित परीक्षा केंद्रों पर कापियां और पेपर भेज दिया गया है। नकल रोकने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने नौ उड़का दल गठित किया है। इसमें एक महिला उड़ाका दल है। इसमें महिला शिक्षकों को शामिल किया गया है। इसमें डा.मल्लिका चतुर्वेदी, डा.वंदना सिन्हा, डा.भावना वर्मा, डा.निमिषा गुप्ता और डा.जया कुमार आर्यन शामिल हैं। चीफ प्राक्टर प्रो.एम.बी.शुक्ल ने बताया है कि महिला उड़ाका दल न सभी कालेजों का निरीक्षण करेंगी। इसके अलावा 8 अन्य उड़ाका दल का गठन किया गया है। जो विभिन्न जिलों का दौरा करेंगे। जिलावार अलग-अलग उड़ाका दलों का गठन नहीं किया गया। कोई भी उड़ाका दल किसी भी जिले में जा सकता है। इसके अलावा एक गोपनीय टीम भी गठित की गई है, जो परीक्षा केंद्रों पर नजर रखेगी। प्रत्येक जिलों के लिए अलग-अलग टास्कफोर्स का गठन भी किया गया है।

वाराणसी के लिए प्रो.केसी पांडेय व डा.परशुराम मौर्य, बलिया के लिए प्रो.मंजुला चतुर्वेदी और डा.राजेंद्र मिश्र, चंदौली के लिए प्रो.गीतारानी अग्रवाल और डा.सुभाष राम, मिर्जापुर के लिए प्रो.कल्पलता पांडेय और डा.कमलेश कुमार श्रीवास्तव, सोनभद्र के लिए प्रो.गयाराम पांडेय और डा.केसी वर्मा तथा भदोही के लिए गठित टास्कफोर्स में प्रो.सुषमा मल्होत्रा और डा.श्रीनिवास पांडेय को सदस्य नियुक्त किया गया है। सभी 6 जिलों में 212 केंद्रों पर परीक्षाएं होगी। जिसमें करीब 1.15 लाख परीक्षार्थी शामिल होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विद्यापीठ: नकल रोकने को महिला उड़ाका दल