DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पैरों की अनदेखी

पैरों को अनदेखा नहीं करना चाहिए। लंदन फुट हॉस्पिटल के वरिष्ठ चिकित्सक और पैर रोग विशेषज्ञ ग्रिनोर मैककोशिन जो इस क्षेत्र में तमाम शोध कर चुके हैं, बताते हैं कि पैरों को फंगस संक्रमण से बचाने के लिए उनको धोते रहना चाहिए। पसीनेयुक्त, बदबूदार जूते या मोजे पहने रहने से पैरों में बीमारी हो सकती है। इससे पैर लाल हो जाते हैं व उनमें जलन होने लगती है। यह संक्रमण बहुत जल्द फैलता है।

पैर रोग विशेषज्ञ कहते हैं कि खासकर पसीने से सने पैर धोने के बाद उस पर सजिर्कल स्प्रिट या टेलकम पाउडर लगाना चाहिए। फिर गुनगुने पानी में पोटेशियम परमैगनेट के दो टुकड़े डालकर उसमें दस मिनट पैर रखने से भी साफ हो जाते हैं। आम दिनों में पैरों के दर्द से बचने के लिए उनकी गुनगुने पानी में सिकाई कर सकते हैं।

- आजकल लोग जूते चुनने के मामले में बहुत सजग हो गए हैं पर उनमें से अधिकांश यह नहीं जानते कि सही क्या है। जूते वही उपयुक्त हैं जो पैर को स्वेच्छा से हरकत करने में मदद करें। धावकों के जूतों में एड़ी के आसपास कुशनिंग की जरूरत होती है क्योंकि वहीं से धरती पर वे पैर मारते हैं।

- नियमित रूप से एयरोबिक्स करने वालों को जूतों में अग्रभाग तक एब्जार्बर की जरूरत होती है।

- पैरों में खिंचाव से हड्डियों में फ्रैक्चर के साथ ही शरीर के लगभग सभी हिस्सों को नुकसान पहुंच सकता है। शॉक एब्जार्बर के ठीक न होने से रीढ़ की हड्डी के जरिए पिछले हिस्से में दर्द की आशंका बराबर होती है।

- वजन और जिस जमीन पर आप दौड़ते हैं या व्यायाम करते हैं, के अनुसार स्पोर्ट्स शूज हर 700 मील या दो वर्ष के भीतर बदल लेने चाहिए। हुक के मुताबिक नए जूते खरीदते समय कुशनिंग आरामदायक, टिकाऊपन, जूते का वजन और सांस लेने की क्षमता की भली-भांति देख-परख होना चाहिए। जूतों के अंतिम हिस्से और एड़ी में एक अंगुल का फासला हो ताकि व्यायाम के दौरान पैर को सरकने का मौका मिल सके।

- नाखूनों को भी नियमित रूप से काटना जरूरी है। पैरों के लंबे नाखूनों से भी एड़ी में दर्द जैसी समस्याएं खड़ी हो सकती हैं।

- पैरों में खिंचाव से हड्डियों में फ्रैक्चर के साथ ही शरीर के लगभग सभी हिस्सों को नुकसान पहुंच सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पैरों की अनदेखी