DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डा. अम्बेडकर की मूर्ति को माला कैसे पहनाएँगे राहुल

कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी डा. अम्बेडकर की मूर्ति को माला कैसे पहनाएँगे? इसे लेकर कांग्रेसी परेशान हैं लेकिन इस सवाल ने यहां के जिला प्रशासन को ज्यादा मुश्किल में डाल दिया है। बाबा साहेब की सरकारी प्रतिमा को बसपा ने अपने समारोह के पंडाल में चारों तरफ से घेर लिया है।

कांग्रेस और बसपा दोनों के कार्यक्रम एक ही समय शुरू होंगे। दोनों कार्यक्रम स्थलों के बीच एक हवाईपट्टी है। बसपा ने अपने सारे लाउडस्पीकरों के रुख राहुल के रैली स्थल की तरफ कर दिए हैं। जोश में युवा कांग्रेसी नारे लगा रहे हैं-‘बाबा तेरा मिशन अधूरा, राहुल गांधी करेंगे पूरा।’ ऐसे गर्म माहौल में जिला प्रशासन को तय करना है कि बसपा के समारोह में राहुल को बाबा साहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण की इजाजत दी जाए या नहीं। 

अम्बेडकर नगर में बसपा व कांग्रेस के बीच शह मात का खेल चल रहा है। पूरे कस्बे में गजब का तनाव है। सड़क पर दौड़ती पुलिस की गाड़ियां, दंगा नियंत्रण के लिए ब्रज वाहन और बम निरोधी दस्ते।  कचहरी रोड़ के दोनों तरफ एक दूसरे में गुत्थमगुत्था करती बसपा की नीली और कांग्रेस की तिरंगी झंडियाँ।

डा. रमेश श्रीवास्तव रात में यूथ कांग्रेस को लेकर मशाल जुलूस निकाल रहे हैं तो बसपा कार्यकर्ता जवाब में मोटर साइकिल जुलूस। स्थानीय नेता गोपालजी शुक्ल अपने दबंग समर्थकों के साथ सभा स्थल की चौकसी कर रहे हैं। राजनीतिक तनाव के इस आलम में पुलिस और पीएसी के जवानों को पसीनें छूट रहे हैं। 

राहुल की रैली को लेकर कांग्रेस ने जबरदस्त तैयारी की है। हवाईपट्टी ग्राऊंड में विशालकाय पंडाल के बीच लाल रंग की करीब आठ हजार कुर्सियाँ पड़ी हैं। सभा स्थल पर तीन-तीन मंच बनाए गए हैं। सामने कांग्रेस यात्रा के दस रथ खड़े हैं जिन्हें हरी झंडी दिखाकर राहुल गांधी रवाना करेंगे। शाम ढल चुकी है। मंच के नीचे कुर्सी पर बैठी रीता बहुगुणा जोशी, प्रमोद तिवारी, परवेज हाशमी गंभीर मुद्रा में मंत्रणा कर रहे हैं। इस पूरे शो के संयोजक व सांसद निर्मल खत्री हवाई पट्टी से मंच तक आने के रास्ते में राहुल के लिए फूल बिछाने का इंतजाम देख रहे हैं। कांग्रेस ने भारी भीड़ जुटाने का इंतजाम किया है। पोस्टर बैनर की जंग में भी वह आगे निकल गई है।

उधर जिला कचहरी के ठीक सामने बसपा का नीला पंडाल लगा है। पंडाल की बीचों-बीच बाबा साहेब की करीब 15 फुट की प्रतिमा। यह मूर्ति मायावती ने मुख्यमंत्री रहते अपने पहले कार्यकाल में लगवाई थी। माल्यार्पण के लिए बाकायदा लोहे की स्थायी सीढ़ी बनी है। लेकिन मूर्ति के चारों तरफ लगे संगमरमर के पत्थरों पर घिसाई का काम चल रहा है। मजदूर बताता है कि यह काम रात तक पूरा हो जाएगा। मौके पर बसपा का कोई बड़ा नेता नहीं है। एक कार्यकर्ता ने बताया कि ‘सबही नेता गाँव से मनई लाए गए हैं। गाँव-गाँव मान मन्नुउल चल रही है।’

राहुल गांधी अम्बेडकर जयंती पर बाबा साहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण कैसे करेंगे? इस सवाल पर रीता भड़क जाती हैं। कहती हैं-‘इन लोगों ने कोई कसर नहीं छोड़ी। देखिए अपने लाऊडस्पीकर तक हमारी तरफ घुमा दिए। पैसा लेने के बाद भी बस परमिट कैंसिल किए जा रहे हैं। कांग्रेसियों को रास्ते से डरा कर वापस भेजा जा रहा है।’ प्रमोद तिवारी कहते हैं कि ‘समझ में नहीं आता सरकारी प्रतिमा को बसपा के पंडाल में कैद करने की इजाजत प्रशासन ने कैसे दी?’

अम्बेडकर नगर के डीएम कुंवर व्रिकम सिंह, फैजाबाद के कमिश्नर व डीआईजी देर रात तक बैठकों में जुटे रहे। वह बताने की स्थिति में नहीं थे कि बुधवार को राहुल गांधी को बाबा साहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण की इजाजत है कि नहीं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डा. अम्बेडकर की मूर्ति को माला कैसे पहनाएँगे राहुल