DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..तो बगैर किताबों के पढ़ेंगे छात्र

सरकारी स्कूलों में बच्चों इस बार नए सत्र में बगैर किताबों के पढ़ाई करेंगे। वजह सरकारी किताबें अभी छपकर नहीं आईं हैं। यह बुक्स कब आएंगी इस बारे में अधिकारी कुछ नहीं बोल रहे हैं। यूं तो अप्रैल के पहले सप्ताह से नया सत्र शुरू हो जाता है। लेकिन इस बार कुंभ के चलते सत्र विलंब से शुरू हो रहा है। 15 अप्रैल से शुरू होने वाले सत्र के लिए अभी किताबें छपकर नहीं आ पाई हैं। ऐसे में बच्चों को अप्रैल भर बिना किताबों के ही पढ़ाई करनी होगी।

सरकारी स्कूलों में कक्षा एक से आठ तक के सभी बच्चों को प्रदेश सरकार मुफ्त किताबें देती है। इन कक्षाओं के लिए 44 किताबें ऐसी हैं, जिन्हें छपवाने के लिए शिक्षा विभाग ने पिछले दिनों टेंडर आमंत्रित किए थे।
प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक कहते हैं कि अभी यह तय नहीं है कि नई किताबें कब दी जाएंगी। वहीं, जिला शिक्षा अधिकारी गीता नौटियाल कहती हैं कि जब तक किताबें नहीं आती हैं तब तक शिक्षकों को रिवीजन के लिए कहा गया है। इसके लिए विद्यालयों को एक आदेश भी भेजा जा रहा है।

विद्यालयी शिक्षा निदेशक पुष्पा मानस कहती हैं कि इस बार किताबों के प्रकाशन की प्रक्रिया विलंब से शुरू हुई है। उन्होंने बताया कि इस बार शासन से नए निर्देश आए थे। इसके मुताबिक विभाग खुद कागज खरीदकर किताबें प्रकाशित करवाएगा। इसके लिए पहले कागज के टेंडर मंगाए गए। वह फाइनल होने के बाद प्रिंटिंग को टेंडर मंगाए गए। इससे किताबें छपने में विलंब हो रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:..तो बगैर किताबों के पढ़ेंगे छात्र