DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुटनिरपेक्ष-देशों के लिए आयोजित भोज में भारत को न्यौता नहीं

गुटनिरपेक्ष-देशों के लिए आयोजित भोज में भारत को न्यौता नहीं

अमेरिका के उप राष्ट्रपति जो बीडेन द्वारा गुटनिरपेक्ष आंदोलन के सदस्यों के लिए आयोजित दोपहर भोज में संगठन के संस्थापक सदस्य भारत को न्यौता नहीं दिया गया। भोज में अमेरिकी नेता ने कहा है कि परमाणु सुरक्षा और अप्रसार पर गुटनिरपेक्ष देशों और उनके देश का एक ही लक्ष्य है।

व्हाइट हाउस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन के इतर बीडेन के सरकारी आवास पर दिये गये भोज में गुटनिरपेक्ष आंदोलन के उन्हीं सदस्यों को बुलाया गया था जिन्होंने परमाणु अप्रसार संधि यानी एनपीटी पर हस्ताक्षर कर रखे हैं।

अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि चूंकि भारत ने एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं किया है लिहाजा उसे नहीं बुलाया गया।

बाइडेन ने नैम देशों के नेताओं के एक समूह को संबोधित करते हुए कहा हमारा मानना है कि गुटनिरपेक्ष देशों के आंदोलन और हमारे देश के परमाणु सुरक्षा, अप्रसार और अन्य अहम मुद्दों पर लक्ष्य कभी भी उतने करीब नहीं रहे, जितने आज हैं।

समारोह में शामिल नेताओं में चिली के विदेश मंत्री अल्फ्रेडो मोरेनो चार्मे, सउदी अरब के जनरल इंटेलिजेंस प्रेसिडेंसी के अध्यक्ष प्रिंस मुकरिन बिन अब्दुल अल-अजीज अल सउद, अल्जीरिया के विदेश मंत्री मोराद मेदेलकी, मिस्र के विदेश मंत्री अहमद अब्दुलघेइट, थाईलैंड के उपप्रधानमंत्री त्रिरोंग सुवानकिरी, इंडोनेशिया के उप राष्ट्रपति बोई डियानो, मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब अब्दुल रजाक और दक्षिण अफ्रीका के विदेश मंत्री मायते नकोना-माशाबेना मुख्य थे।

समारोह में इसके अलावा मोरक्को, वियतनाम और नाइजीरिया के नेता भी शामिल हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुटनिरपेक्ष-देशों के लिए आयोजित भोज में भारत को न्यौता नहीं