DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

10 रुपए में ग्रामीण भेज रहे ई-संदेश

शहरी क्षेत्रों में असफल हुई ई-पोस्ट सेवा आश्चर्य जनक ढंग से ग्रामीण इलाकों में भारी लोकप्रिय हो रही है। इसका अंदाजा केवल इस आंकड़े से लगाया जा सकता है कि एक दिन में इन दिनों ई-पोस्ट सेवा पचास से अधिक हो रही है। और यह सभी ग्रामीणों द्वारा भेजी गई है। इसका एक बड़ा कारण बताया जा रहा है कि ग्रामीणों के लिए ई-पोस्ट सेवा के तहत केवल अंग्रेजी में ही मैसेज नहीं दिए जा सकते हैं बल्कि अब ग्रामीणों की सुविधा को मद्देनजर ?स सेवा के तहत हिंदी में भी मैसेज दिया जा सकता है। बस यही एक कारण है कि अब बड़ी संख्या में ग्रामीण ई-पोस्ट करने डाक कार्यालय पहुंच रहे हैं। इस संबंध विभाग का कहना है कि प्रतिदिन कम से कम पचास से ऊपर ग्रामीण ई-पोस्ट कराने आते हैं। इनमें अधिकांश की एक ही रट होती है कि हिंदी में संदेश होना चाहिए नहीं तो हम नहीं देंगे।


डाक विभाग ने यह सेवा आठ साल पहले शुरू की थी लेकिन तब इसकी पहुंच केवल शहरी क्षेत्रों तक ही सीमित थी और चूंकि नोएडा सहित ग्रेटर नोएडा एक हाईटेक सिटी हैं और लगभग सभी के पास इंटरनेट की सुविधा होने के कारण लोग डाक सेवा ई-पोस्ट करने नहीं आते थे। लेकिन दूसरी ओर जिले के देहात क्षेत्रों में जब इस बात का प्रचार हुआ कि हम भी कंप्यूटर से चिट्ठी भेज सकते हैं तब लोग ई-पोस्ट करने आने लगे।

‘‘ई-सेवा का प्रचार होने से ग्रामीणों में भी ई-पोस्ट सेवा लोकप्रिय हुई है। ग्रामीण अपना संदेश पोस्ट ऑफिस आकर काउंटर पर बैठे आपरेटर को बताते हैं और ग्रामीणों के संदेश को ऑपरेटर टाइप करके भेज देता है। और चूंकी इसके लिए ग्रामीण को केवल दस रूपए देने पड़ते हैं। ग्रामीणों का संदेश अधिक से अधिक 25 शब्दों तक सीमित होता है।’’   
आरडी शर्मा
हैड पोस्टमास्टर, मुख्य डाकघर
सेक्टर-19, नोएडा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:10 रुपए में ग्रामीण भेज रहे ई-संदेश