DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सल प्रभावित जिलों में ट्रेनों को खतरा!

नक्सल प्रभावित सोनभद्र और मिर्जापुर जिले के दजर्न भर रेलवे स्टेशन नक्सलियों के निशाने पर हैं। जीआरपी की खुफिया विंग की मानें तो चुनार-चोपन रेल मार्ग पर स्थित चुनार, रेनूकूट, चोपन और लूसा स्टेशनों पर नक्सली कभी भी हमला कर सकते है। सोनभद्र के पांच सौ किमी रूट और डेढ़ दजर्न भर से ज्यादा रेलवे स्टेशनों सुरक्षा के इंतजाम अपर्याप्त हैं। यहां दो तिहाई रेलवे रूट पर कदम-कदम पर नक्सलियों के हमले के खतरे बने हुए हैं। कमोबेश यही हालत मिर्जापुर में भी है।

सोनभद्र के नक्सल प्रभावित इलाके में लूसा, खैराही, राबर्ट्सगंज, चुर्क, गुरमा, अगोरी, चोपन, बिल्ली, रेणुकूट, म्योरपुर रोड, झारो रोड, दुद्धी, महुली व विण्ढमगंज जैसे रेलवे स्टेशन पड़ते हैं, जहां से हर दिन आधा दजर्न से ज्यादा ट्रेनों व हजारों यात्रियों का आवागमन होता है।

चोपन रेलवे स्टेशन पर पिछले माह हुए बम विस्फोट ने सुरक्षा इंतजामों की कलई खोल दी। इसके पहले नक्सली हिनउत, नरकटी, नौगढ़ रेंजरी, खोराडीह जैसी जगहों पर कहर बरपाने के साथ जमकर लूटपाट कर चुके हैं। चुनार-चोपन रेल मार्ग पर स्थित अघोरी रेलवे स्टेशन पर दो वर्ष पूर्व कथित नक्सलियों ने हमला कर सहायक स्टेशन मास्टर की पिटाई कर कैश बाक्स से पैसा लूट ले गए थे।

नक्सलियों के खिलाफ आपरेशन ग्रीन हंट शुरू होने के बाद उन्हें यूपी खासकर सोनभद्र व इससे सटे चंदौली बार्डर की एरिया में पहाड़ियों की श्रृंखला, घनघोर जंगल व सुनसान वादियां मुफीद नजर आने लगी हैं। खुफिया तंत्र का मानना है कि चोरी छिपे खुद को भूमिगत सा दर्शाते हुए कई नक्सली सोनभद्र की सीमा में प्रवेश भी कर चुके हैं।

चोपन स्टेशन पर हुए बम विस्फोट में भी नक्सली हाथ की आशंका जतायी जा चुकी है। गोबाद गांधी को पश्चिम बंगाल ले जाते समय मिली खुफिया तंत्र की रिपोर्ट भी कुछ इसी ओर इशारा करती है।


नक्सली इलाके से गुजरने वाली ट्रेनें        सुरक्षा की स्थिति
त्रिवेणी एक्सप्रेस अप-डाउन           आधा दजर्न स्कोर्ट जवान
मूरी एक्सप्रेस अप-डाउन   सिर्फ रिजर्व बोगियों तक सिमटी कवायद
त्रिवेणी लिंक एक्सप्रेस                    सुरक्षा में छेद ही छेद
गोमो-बरवाडीह-चुनार पैसेंजर              कोई इंतजाम नहीं
चोपन-इलाहाबाद पैसेंजर                   कोई इंतजाम नहीं
स्वर्णजयती एक्सप्रेस             जवानों की तैनाती पर नहीं संजीदगी
झारखण्ड एक्सप्रेस  अपर्याप्त
सीसीज पैसेंजर             कोई इंतजाम नहीं
शक्तिनगर-इलाहाबाद पैसेंजर              कोई इंतजाम नहीं

नक्सल इलाके में प्रमुख रेलवे स्टेशन
लूसा, खैराही, राबर्ट्सगंज, चुर्क, अगोरी, चोपन, बिल्ली, ओबरा डैम, रेणुकूट, म्योरपुर रोड, झारो रोड, दुद्धी, महुली, विण्ढमगंज

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नक्सल प्रभावित जिलों में ट्रेनों को खतरा!